बरेली, जागरण संवाददाता। सरकारी जमीन को खुर्द-बुर्द करने के प्रयास का बड़ा मामला प्रकाश में आया है। बीसलपुर रोड स्थित बेशकीमती सरकारी जमीन को कुछ लोगों ने नीलाम करने का विज्ञापन निकाल दिया। मामले की जानकारी डीएम शिवाकांत द्विवेदी तक पहुंची। उन्होंने पुराने रिकार्ड निकलवाए तो फर्जीवाड़ा दिखाई दिया। इस पर उन्होंने एसडीएम सदर और डीआइओएस की कमेटी बनाकर मामले की विस्तृत जांच करने के साथ ही रिपोर्ट दर्ज कराने के निर्देश दिए हैं।

मामला बीसलपुर रोड स्थित बिथरीचैनपुर के गांव रजपुरी नवादा का है। शहर से करीब 15 किलोमीटर दूर इस जगह पर सड़क से लगी हुई करीब 19 हेक्टेयर भूमि ग्राम समाज की है। वर्षों पहले भारत सेवक समाज इंटर कालेज प्रबंध समिति ने फर्जी तरीके से जमीन के अभिलेखों में स्कूल का नाम दर्ज करा लिया था। इसकी जांच हुई तो वर्ष 2013 में तत्कालीन एसडीएम ने दस्तावेजों में से स्कूल का नाम निरस्त कर दिया था। इसके बाद जमीन को दोबारा ग्राम समाज की नवीन परती में दर्ज कर लिया गया। आज भी वह जगह ग्राम समाज के नाम पर ही दर्ज है।स्कूल की प्रबंध समिति भी खत्म हो चुकी है। 12 नवंबर 2020 से वहां सिंगिल आपरेशन लागू है। जिला विद्यालय निरीक्षक (डीआइओएस) के अधीन स्कूल संचालित है।

20 जून को स्कूल के तथाकथित प्रबंधक की ओर से एक विज्ञापन प्रकाशित कराया गया है, जिसमें उस सरकारी जमीन की नीलामी खेती के कार्य के लिए 30 जून को रखी गई है। मामले की जानकारी डीएम शिवाकांत द्विवेदी तक पहुंची तो उन्होंने गंभीरता से लिया। तत्काल एसडीएम सदर कुमार धर्मेंद्र और डीआइओएस डा. मुकेश कुमार की कमेटी बनाकर जांच के निर्देश दिए। सरकारी जमीन को नीलाम करने वालों के खिलाफ एफआइआर दर्ज करवाने को भी कहा है।

जिलाधिकारी शिवाकांत द्विवेदी ने बताया कि बीसलपुर रोड पर सरकारी जमीन की नीलामी का विज्ञापन छपने की जानकारी को गंभीरता से लेते हुए एसडीएम और डीआइओएस की कमेटी बनाकर जांच के निर्देश दिए हैं। दोषियों पर आपराधिक मामला दर्ज कराने को कहा है।

Edited By: Vivek Bajpai