जेएनएन, बरेली : श्यामगंज बाजार में दिन दहाड़े ड्रग इंस्पेक्टर बनकर चेकिंग के नाम पर बाइक सवारों ने व्यापारी के 55 हजार उड़ा दिए। बदायूं से खरीदारी करने आए व्यापारी को शक हुआ तो बैग चेक करने पर रुपये गायब मिले। जब तक व्यापारी ने शोर मचाया दोनों शातिर बाइक लेकर गायब हो चुके थे। सूचना पर पुलिस पहुंची और पूछताछ के आधार पर मुकदमा दर्ज कर लिया।

बदायूं अलापुर के म्याऊं गांव निवासी मुकेश कुमार बुधवार दोपहर श्यामगंज मार्केट सामान खरीदने आए। उनके पास बैग में 55 हजार रुपये थे। वह हींग खरीदने के लिए एक थोक विक्रेता की दुकान पर पहुंचे। दुकान के बाहर ही एक युवक पीछे आया और कहा कि ड्रग इंस्पेक्टर साहब बुला रहे हैं चेकिंग चल रही है।

बाइक पर बैठा था फर्जी इंस्पेक्टर

पीड़ित ने पलट कर देखा तो करीब बीस कदम दूर एक युवक बाइक पर बैठा था। उसने मुकेश को इशारा कर बुलाया तो मुकेश पुलिस समझकर वहां पहुंचा तो दोनों युवकों ने पूछताछ शुरू कर दी। उसने अपना बैग फर्जी इंस्पेक्टर को चेक कराया। शातिरों ने उसकी बैग की तलाशी ली और करीब 55 हजार रुपये उड़ा दिए।

बैग में कुछ नहीं चुपचाप निकल जाओ

चेकिंग के बाद शातिरों ने कहा कि उन्हें गलत फहमी हो गई थी। बैग में कुछ नहीं मिला है। जाओ चुपचाप निकल जाओ। जिसके बाद पीड़ित कुछ दूर चला फिर शंका होने पर बैग चेक किया तो रुपये गायब मिले।

सीसीटीवी में कैद हुआ एक ठग, चेहरा साफ नहीं

सूचना पर इंस्पेक्टर सतीश कुमार फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे। इस दौरान घटना स्थल के पास एक दुकान पर सीसीटीवी कैमरा लगा दिखाई पड़ा। एक शातिर युवक को अपने साथ लेकर जाता दिख रहा है लेकिन चेहरा साफ नहीं होने के कारण शातिर का चेहरा साफ नहीं दिख रहा है।

सीबीआइ, क्राइम ब्रांच और अब बने ड्रग इंस्पेक्टर

बता दें बारादरी इलाके में यह तीसरी ऐसी टप्पेबाजी है। जिसमें शातिरों ने खुद को इंस्पेक्टर बताया। पहली टप्पेबाजी सीबीआई बनकर तो दूसरे टप्पेबाजी क्राइम ब्रांच बनकर तो बुधवार को ड्रग इंस्पेक्टर बनकर वारदात को अंजाम दिया। हालांकि आज तक एक भी घटना का खुलासा नहीं हो सका।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप