बरेली, जेएनएन: कोरोना संक्रमण की पहली और दूसरी लहर में कई लोगों ने आक्सीजन की कमी के चलते अपनों को खोया। कई लोगों ने आक्सीजन सिलिडर के दोगुने-तिगुने दाम दिए। अब तीसरी लहर की आशंका जताई जा रही है, लेकिन इससे पहले बरेली मंडल आक्सीजन के मामले में आत्मनिर्भर हो जाएगा। मंडल के चारों जिलों में 21 आक्सीजन प्लांट लग रहे हैं। इनके लग जाने के बाद मंडल में 23 आक्सीजन प्लांट हो जाएंगे। इन 23 में दो प्लांट अभी संचालित हो रहे हैं।

पीएम केयर्स फंड से लग रहे आठ प्लांट

चारों जिलों में लगाए जा रहे कुल 21 में आठ प्लांट पीएम केयर्स फंड से लगाए जा रहे हैं। इनमें बदायूं में दो, बरेली में तीन, पीलीभीत में दो और शाहजहांपुर में एक प्लांट शामिल है। इन सभी का खर्च पीएम केयर्स फंड की द्वितीय व तृतीय किस्त से किया जा रहा है। इसके अलावा विभिन्न कंपनियों के सीएसआर मद से शाहजहांपुर में दो, पीलीभीत और बदायूं में एक एक प्लांट लग रहे हैं।

गन्ना और आबकारी की ओर से लग रहे पांच प्लांट

मंडल में लगने वाले 21 में से पांच प्लांट गन्ना और आबकारी विभाग की मदद से लगाए जा रहे हैं। इसमें शाहजहांपुर में एक, पीलीभीत में एक, बरेली के बहेड़ी व मीरगंज में एक-एक और बदायूं के घटपुरी में एक प्लांट शामिल है। इसके अलावा बदायूं में एक प्लांट विधायक निधि और एक राज्य आपदा प्रबंधन निधि से लगाया जा रहा है। इसी तरह शाहजहांपुर में एक प्लांट राज्य से वित्तपोषित और एक राज्य आपदा प्रबंधन निधि से लग रहा है।

एक हजार लीटर प्रति मिनट क्षमता वाले प्लांट सबसे ज्यादा

मंडल में लग रहे आक्सीजन प्लांटों में सभी की क्षमता अलग-अलग है। इसमें सबसे ज्यादा सात प्लांट एक हजार लीटर प्रति मिनट क्षमता वाले हैं। इसके अलावा 400, 300, 960, 130, 250, 405, 234, 325, 200 लीटर प्रति मिनट क्षमता वाले प्लांट भी शामिल हैं।

यहां लग रहे आक्सीजन प्लांट

बदायूं: सीएचसी घटपुरी, रुदायन, जिला अस्पताल बदायूं और तीन प्लांट मेडिकल कालेज बदायूं में।

बरेली: तीन सौ बेड अस्पताल, सीएचसी बहेड़ी, सीएचसी मीरगंज, मिलिट्री हास्पिटल, जिला महिला अस्पताल।

पीलीभीत: सीएचसी धौराटांडा, जिला अस्पताल में दो, चाइल्ड हास्पिटल विग।

शाहजहांपुर: सीएचसी जलालाबाद, जिला अस्पताल, चार शाहजहांपुर मेडिकल कालेज में।

वर्जन

मंडल के सभी जिलों में आक्सीजन प्लांट लगाने का काम तेजी से चल रहा है। चारों जिलों को मिलाकर सीएचसी, मेडिकल कालेज और जिला अस्पतालों में कुल 21 प्लांट लग रहे हैं। इससे पहले से भी दो प्लांट संचालित है। इस प्रकार कुल 23 प्लांट मंडल में हो जाएंगे। इससे आने वाले दिनों में आक्सीजन की दिक्कत नहीं होगी।

- डा. एसपी अग्रवाल, एडी हेल्थ

Edited By: Jagran