बेलहरा (बाराबंकी) : कृष्ण डोल पर एक विशेष समुदाय ने अपने धार्मिक स्थल से पथराव कर दिया। पथराव में आधा दर्जन लोग घायल हो गए। घटना के बाद पुलिस बल की तैनाती की गई है, और घायलों को स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। चार लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

मोहम्मदपुर खाला थाना क्षेत्र के ग्राम गौरा सैलक निवासी रामदीन के यहां कृष्ण डोल रखा हुआ था। शुक्रवार की शाम को कृष्ण डोल की शोभायात्रा निकाली जा रही थी। गौरा सैलक में यात्रा धूमधाम से निकाली गई, बाद में पास के गांव गंधीपुर में डोल को ले जाते समय एक समुदाय के लोगों ने आगे जाने से रोका। विवाद हो गया, थानाध्यक्ष मौके पर पहुंचे और दोनों पक्षों के लोगों को शांत कराकर कृष्ण डोल को गांव की ओर रवाना कर दिया। इसके बाद पुलिस मौके से चली गई। शाम छह बजे कृष्ण डोल गंधीपुर गांव में शोभायात्रा के बाद वापस आ रहा था। जैसे ही विशेष समुदाय के धार्मिक स्थल के निकट डोल पहुंचा कि उस पर कुछ लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। पथराव में गया प्रसाद, मुकेश, राजेश, दिनेश, रामकिशोर, अनिल कुमार आदि घायल हो गए। इस घटना के बाद से विवाद छिड़ गया, मौके पर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। पुलिस ने दूसरे पक्ष के चार को लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

आखिरी क्यों हटी पुलिस कृष्ण डोल को रोकने वाले लोगों को थानाध्यक्ष और पुलिस ने शांत करा दिया था। यदि पुलिस मौके पर ही बनी रहती तो शायद वापस आते समय कृष्ण डोल पर पथराव न होता। लोगों में चर्चा है कि मौके पर जब पुलिस आ गई थी, तो क्यों वहां से चली गई। क्या कारण था पुलिस के वहां से हटने का। हालांकि अब घटना के बाद से पुलिस मौके पर तैनात है।

कृष्ण डोल पर पथराव करने वाले आलम, सहनूर, मुन्नू और राऊफ को गिरफ्तार कर लिया है। अन्य लोगों की भी तलाश जारी है। यह लोग अपने घरों से पथराव कर रहे थे। अभी मुकदमा दर्ज नहीं हुआ है, तहरीर मिलने के बाद एफआईआर दर्ज कराई जाएगी। ''

राजेश यादव, क्षेत्राधिकारी फतेहपुर, बाराबंकी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप