बाराबंकी : दूसरे के फर्जी दस्तावेज बनाकर 10 वर्षों से नौकरी कर रहे प्रधानाध्यापक अतुल कुमार सिंह को बर्खास्त कर दिया गया है। इसका नाथ एसआइटी की फेक सूची में था। एक वर्ष पहले जैसे ही खंड शिक्षा अधिकारी ने जांच शुरू की वह फरार हो गया था। हैदरगढ़ के प्राथमिक विद्यालय फूलशाहगढ़ी के प्रधानाध्यापक अतुल कुमार सिंह को तत्काल प्रभाव से प्रभारी जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी राजेश कुमार वर्मा ने बर्खास्त कर दिया है। खंड शिक्षा अधिकारी हैदरगढ़ नवाब वर्मा ने फुलशाहगढ़ी के प्रधानाध्यापक अतुल कुमार सिंह के अभिलेखों की जांच उस समय शुरू की, जब इसका नाम एसआइटी की फेक सूची में सामने आया। 30 मई 2020 को वेतन खाते पर रोक लगाते हुए सारे अभिलेखों की जांच पड़ताल की। अतुल कुमार सिंह को जांच की जानकारी हुई तो वह फरार हो गया। कई बार नोटिस भेजने के बाद भी उनका जवाब नहीं आया। ग्राम छिरिहा, पोस्ट सिरजम, जिला देवरिया के निवास पर शिक्षक को डाक से नोटिस भेजी थी। तमाम खोजबीन के बाद पता चला कि अतुल कुमार ने किसी दूसरे अतुल कुमार के फर्जी दस्तावेज लगाकर नौकरी कर रहा था। यह सात अगस्त 2010 से नौकरी कर रहा है। इसकी सबसे पहले ज्वाइनिग प्राथमिक विद्यालय सरेहेटा में हुई थी। उसके बाद प्रमोशन के बाद प्राथमिक विद्यालय फूलशाहगढ़ी में बतौर प्रधानाध्यापक के पद पर की गई थी। तब से नौकरी कर रहा था। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी ने कार्रवाई करते हुए रिकवरी के दिए निर्देश,30 मई को खाते पर लगा दी गई थी। शिक्षा विभाग में फर्जी अभिलेखों के सहारे नौकरी हासिल करने का यह नया मामला नहीं है। इसके पहले भी कई शिक्षक फर्जीवाड़े में नौकरी गवां चुके हैं।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप