बाराबंकी : जिला बार एसोसिएशन सभागार में अधिवक्ता परिषद की ओर से भारतीय नवसंवत्सर हर्षोल्लास के साथ सिविल बार के अध्यक्ष मंशाराम गुप्त की अध्यक्षता एवं परिषद के अध्यक्ष रामलखन शुक्ल के संचालन में मनाया गया।

मुख्य अतिथि अपर महाधिवक्ता कुलदीप पति त्रिपाठी, विशिष्ट अतिथि प्रशांत सिंह अटल व आनंद मिश्र अभय ने भारत माता के चित्र पर माल्यार्पण और दीप प्रज्जवलन से कार्यक्रम का शुभारंभ किया। स्वागम गीत रामसेवक यादव इंटर कॉलेज की छात्राओं ने प्रस्तुत किया।

कुलदीप पति त्रिपाठी ने कहा कि नवसंवत्सर उत्सव हमारे जीवन में महत्वपूर्ण स्थान रखता है क्योंकि यह एक ऐतिहासिक दिन है। इसमें ब्रह्मा जी ने सृष्टि की रचना की। भगवान राम का राज्याभिषेक तथा विक्रमी संवत की मान्यता भी इस दिन से है। मुख्य वक्ता प्रशांत सिंह अटल ने कहा कि प्रकृति के परिवर्तन से ही नववर्ष की शुरूआत होती है। हरी-हरी पत्तियों से सजी प्रकृति जब नववर्ष का स्वागत करती है। उन्होंने राष्ट्र निर्माण में अधिवक्ता समाज का बड़ा योगदान होने की बात कही। आशीर्वचन देते हुए भारतीय संस्कृति पर विस्तृत प्रकाश आनंद मिश्र अभय ने दिया। सरवन कुमार सिंह और देवांशु प्रताप सिंह ने प्रतीक चिन्ह् भेंट किया।

बार अध्यक्ष भारत सिंह यादव, महामंत्री सुनीत अवस्थी, उपाध्यक्ष रमन द्विवेदी, अधिवक्ता परिषद के विष्णु प्रताप सिंह, रामऔतार प्रजापति, शरद उपाध्याय, सुनील कुमार मौर्य, मुकेश दीक्षित, अवध बिहारी यादव, पूर्व अध्यक्ष बृजेश दीक्षित, हरीश अग्निहोत्री, शाहीन अख्तर, लक्ष्मी रानी गुप्ता, सुषमा शर्मा, राकेश तिवारी, रवि शुक्ला, दिलीप रावत, कुंज बिहारी गुप्ता, अमित शुक्ला, अंशुमान द्विवेदी, रघुराज सिंह, जगत बहादुर सिंह मौजूद रहे। आभार ज्ञापन वरिष्ठ अधिवक्ता केदारबख्श सिंह ने किया।

Posted By: Jagran