संवाद सूत्र, खप्टिहाकला : सिधनकला गांव के प्रधान पर उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए ग्राम पंचायत सदस्यों ने एसडीएम को इस्तीफा सौंपा। आरोप लगाया कि अनुसूचित जाति की महिला प्रधान बैठक बुलाने के बजाए घर पर बुलाकर सादे कागज पर हस्ताक्षर कराती हैं। इन्कार करने पर फर्जी फंसाने की धमकी देती हैं। बिना काम के लाखों रुपये निकालने का भी संगीन आरोप लगाया। एसडीएम ने जसपुरा बीडीओ को जांच सौंप रिपोर्ट मांगी है।

पैलानी तहसील के सिधनकला गांव की महिला ग्राम प्रधान शिवप्यारी के खिलाफ ग्राम पंचायत सदस्यों ने मोर्चा खोल दिया है। सादे कागज पर हस्ताक्षर कराए जाने का आरोप लगाते हुए सदस्य भड़क गए और एसडीएम महेंद्र प्रताप को इस्तीफा सौंप दिया। ग्रापंस सुरेश प्रसाद, लक्ष्मण, दिलीप सिंह, संजय, ज्ञानेंद्र सिंह, छोटू सिंह व अन्य सदस्यों ने शिकायती पत्र देकर आरोप लगाया कि ग्राम प्रधान महिला व अनुसूचित जाति वर्ग का होने का फायदा उठाती हैं। बैठक नहीं बुलाती हैं और सदस्यों को घर बुलाकर अलग-अलग खाली सादे पेपरों में हस्ताक्षर करने के लिए कहती हैं। जिसे हम सदस्य नहीं कर रहे हैं तो फर्जी मुकदमे में फंसाने की धमकी दे रही हैं। सदस्यों ने एसडीएम को बताया कि ग्राम प्रधान द्वारा सीसी मार्गों के निर्माण का रुपया फर्जी निकाल लिया गया। स्ट्रीट लाइटों का भी 1,99,300 रुपया निकाल लिया गया है, जबकि स्ट्रीट लाइटें अभी तक नहीं लग पाई हैं। प्रधान द्वारा बिना कार्य के ही लाखों रुपये निकाला गया, जिसकी जांच कराकर कार्रवाई की गुहार लगाई है। एसडीएम महेंद्र प्रताप ने जसपुरा बीडीओ अमित कुमार यादव को जांच कर आख्या देने के निर्देश दिए हैं। वहीं ग्राम प्रधान शिवप्यारी ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को बेबुनियाद बताया है।

Edited By: Jagran