संवाद सहयोगी, बबेरू : केंद्र व प्रदेश सरकार ने किसान, व्यापारियों व छात्रों के हित के लिए काम किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गरीबी को देखा है, इसलिए हर योजना को निचले स्तर पर पहुंचाकर उसका मूल्यांकन समय-समय पर कार्यक्रमों के माध्यम से किया जा रहा है। अब किसी भी योजना में कोई भी बंदरबांट नहीं कर सकता है। हर योजना का लाभ आनलाइन लाभार्थी के खाते में दिया जा रहा है। पूर्व की सरकारों ने गरीबों के पैसे का बंदरबांट कर अपनी जेब में भरी, जिसका परिणाम है कि गरीब जनता ने उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया है। यह बात विधायक चंद्रपाल कुशवाहा ने लाभार्थियों के बीच प्रमाणपत्र वितरित करते हुए कही। विकासखंड परिसर में पंडित दीनदयाल उपाध्याय की जयंती के अवसर पर गरीब कल्याण दिवस का आयोजन किया गया। कृषि विभाग, ग्रामीण विकास, खाद एवं रसद विभाग, समाज कल्याण विभाग, शिक्षा विभाग सहित करीब 18 विभागों की प्रदर्शनी भी लगाई गई। कृषि विज्ञानी अरविद कुमार गुप्ता ने कहा कि हरित क्रांति के पहले भारत में पैदावार न के बराबर थी, जिससे किसानों को दो जून की रोटी नसीब नहीं थी। हरित क्रांति आने पर किसानों ने मेहनत की और स्वावलंबी हुए। उत्पादन बढ़ा, किसानों की पैदावार को भारत से निर्यात किया गया। कहा कि उत्पादन के साथ-साथ गुणवत्ता पर भी ध्यान देना होगा। किसानों को जैविक खेती पर ध्यान देना होगा, गोबर व केंचुए की खाद का अधिक से अधिक प्रयोग करें। विधायक चंद्रपाल कुशवाहा ने मुख्यमंत्री आवास, प्रधानमंत्री आवास, स्वच्छ भारत मिशन, राष्ट्रीय रोजगार गारंटी के करीब सौ से अधिक लोगों को प्रमाण पत्र देकर सम्मानित किया। बीडीओ डा. प्रभात कुमार द्विवेदी, अजय पटेल, एसएस भारती, विवेकानंद गुप्त, ब्लाक प्रमुख रमाकांत पटेल, नपं अध्यक्ष विजय पाल सिंह व राजा दीक्षित आदि मौजूद रहे।

जलजीवन मिशन कैंप का निरीक्षण

बबेरू : जल जीवन मिशन हर घर घर जल के कैंप का एडीएम नमामि गंगे एमपी सिंह ने निरीक्षण किया। कहा कि गांव गांव में नलों से शुद्ध पानी पीने को मिलेगा। इसके लिए सरकार ने खटान और अमलीकौर में योजना को स्थापित किया है। कर्मचारियों से पानी परीक्षण के बारे में जानकारी ली और अपने समक्ष पानी का परीक्षण भी कराया।

Edited By: Jagran