जागरण संवाददाता, चित्रकूट : तुलसी कृषि विज्ञान केंद्र गनीवां में पोषण अभियान के तहत कार्यक्रम हुआ।

उप कृषि निदेशक टीपी शाही ने कहा कि पोषण का सभी के शरीर व मन को स्वस्थ रखने में महत्वपूर्ण योगदान है। आमदनी का लगभग 20 प्रतिशत स्वास्थ्य के उपचार पर खर्च हो जाता है। यदि स्वच्छता व पोषक आहार पर ध्यान दिया जाए तो इस खर्च को बचाया जा सकता है। जिला समन्वयक इफ्को शिवम तिवारी ने कहा कि पोषण अभियान तभी सफल होगा जब माताएं जैविक खेती में हरी सब्जियों का उत्पादन कर अपने परिवार को स्वस्थ रखेंगी। सांसद प्रतिनिधि शक्ति सिंह तोमर ने कहा कि कुपोषण के कारण हमारे देश में प्रतिवर्ष काफी बच्चों की असमयिक मृत्यु हो जाती है जिसको संतुलित पोषक आहार उपलब्ध कराकर कम किया जा सकता है। केंद्र की गृह विज्ञानी ममता त्रिपाठी ने पोषण थाली पर चर्चा करते हुए बताया कि हमारे शरीर के विकास के लिए भोजन में उपलब्ध पोषक तत्व जैसे कार्बोहाईड्रेट, प्रोटीन, विटामिन, मिनरल, लोहा, जिक, मैग्नीशियम की आवश्यकता कितनी मात्रा में होती है इसकी जानकारी प्रदान की। कार्यक्रम में लगी प्रदर्शनी में सहजन, मीठी नींम, महुआ, कोदो, कुटकी एवं करौंदा तथा नींबू से बने उत्पादों को सराहा गया।

केंद्र प्रमुख डा. चंद्रमणि त्रिपाठी, उद्यान विज्ञानी डॉ. विनय कुमार, मौसम विज्ञानी डॉ. मनोज कुमार शर्मा, मत्स्य विज्ञानी कमला शंकर शुक्ला, भाजपा नेता सुनील सिंह रहे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस