जागरण संवाददाता, बांदा : भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, नई दिल्ली ने कृषि विज्ञान केंद्रों द्वारा किए जा रहे कार्यों का मूल्यांकन किया। कानपुर द्वारा 15 से 17 जून को 28वें वार्षिक जोनल कार्यशाला का आयोजन किया गया। इसमें कृषि विश्वविद्यालय बांदा के संचालित दो कृषि विज्ञान केंद्र जालौन व महोबा को बीज उत्पादन व टीएसपी परियोजना में उत्तम कार्य के लिए पुरस्कृत किया गया है।

बांदा कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत कृषि विज्ञान केंद्र जालौन व महोबा को बीज उत्पादन व टीएसपी परियोजना में उत्तम कार्य के लिए पुरस्कार मिलने पर कुलपति डा. यूएस गौतम ने पूरी टीम को बधाई दी है। जनसंपर्क अधिकारी डा. बीके गुप्ता ने बताया कि सह निदेशक प्रसार डा. नरेंद्र सिंह आदि ने खुशी जताई। कृषि विज्ञान केंद्र जालौन द्वारा लक्ष्य के सापेक्ष अधिक बीज उत्पादन एवं वितरण करने हेतु पुरस्कृत किया गया। बीज उत्पादन कार्यक्रम के अंतर्गत प्रमुख रूप से दलहनी फसलों में चना, मसूर, मटर, मूंग, उर्द एवं अन्न वाली फसलों में गेहूं के अधिक उत्पादन देने वाली संस्तुत प्रजातियों का बीज उत्पादन किया जाता है। इसी तरह कृषि विज्ञान केंद्र टीएसपी (ट्राइबल सब प्लान) के माध्यम से अनुसूचित जनजाति के परिवारों को रोजगारोन्मुखी बनाने हेतु प्रेरित करने के साथ-साथ प्रशिक्षण एवं अन्य सहायता प्रदान की गई। कृषि के क्षेत्र से जुड़े विभिन्न गतिविधियों में आय वृद्धि करने हेतु संसाधन उपलब्ध कराना, प्रशिक्षण देना, आदान वितरण करना एवं परामर्श देने का कार्य किया जाता है।

भारतीय किसान यूनियन ने तहसीलदार को सौंपा ज्ञापन

संवाद सूत्र, खप्टिहाकला : पैलानी तहसील में भारतीय किसान यूनियन के तहसील अध्यक्ष बिदा सिंह परिहार की अगुवाई में तीन सूत्रीय मांगों को लेकर उप जिलाधिकारी को संबोधित ज्ञापन तहसीलदार तिमिराज सिंह को सौंपा।

भारतीय किसान यूनियन ने तहसीलदार तिमिराज सिंह को सौंपे ज्ञापन में क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं को उठाया। तहसील परिसर में मासिक बैठक के बाद समाधान करने के लिए नारेबाजी भी की। तहसील अध्यक्ष बिदा सिंह ने कहा कि आपूर्ति कार्यालय में राशन कार्ड बनाने में धांधली की जा रही है। राशन कार्ड में यूनिट काटे जाते हैं। इससे पुन: राशन कार्ड बनवाने, यूनिट जोड़ने के लिए लोगों को चक्कर लगाने पड़ते हैं। कई लोगों के आवेदन फार्म ही गायब कर दिए जाते हैं। पदाधिकारियों ने आयुर्वेदिक चिकित्सालय, मातृ शिशु केंद्र की बाउंड्री पूरी तरह ध्वस्त हो चुकी है। निर्माण कराने की मांग की है। ग्राम पलरा से पपरेंदा तक चिल्ला-बांदा रोड बहुत ही क्षतिग्रस्त हो चुका है। सड़क की मरम्मत करवाने की मांग की गई है। मेवालाल साहू, धर्मराज सिंह गौतम, तहसील प्रभारी शारदा प्रसाद, सुरेंद्र कुमार त्रिपाठी आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran