जागरण संवाददाता, बांदा : विशिष्ट देखभाल के जरूरतमंद दिव्यांग बच्चों के लिए एक अगस्त से एक्सीलरेटेड लर्निग कैंप शुरू होगा। शासन इस वर्ष समग्र शिक्षा अभियान के तहत समेकित शिक्षा में मंडल के चारों जिलों में 300 बच्चों के उन्नयन और उन्हें समाज की मुख्य धारा में लाने के लिए 72 लाख छह हजार 112 रुपये खर्च करेगा। यह कैंप आठ माह तक चलेगा। इसके लिए बजट जारी करने के साथ ही चित्रकूटधाम मंडल के प्रत्येक जिले के लिए गाइडलाइन जारी की है।

कैंप में दृष्टि बाधित बच्चों को ब्रेल लिपि जबकि अन्य बच्चों को प्रशिक्षित किया जाएगा ताकि वह समाज की मुख्य धारा में खुद को स्थापित कर सकें। कैंप स्थल का चयन बीएसए खुद स्थलीय निरीक्षण के बाद करेंगे।

जिला स्तरीय समिति करेगी वार्डेन-केयरटेकर का चयन

कैंपों में वार्डेन व केयरटेकर का चयन जिला स्तरीय समिति करेगी। इसमें बीएसए, जिला समन्वयक व डीएम की ओर से नामित एक अधिकारी होगा। कैंप में वार्डेन व सभी शिक्षकों को बच्चों के साथ रहना होगा। साथ ही चार शिक्षक व तीन केयर टेकर रखे जाएंगे। राज्य परियोजना निदेशक विजय किरन आनंद ने बेसिक शिक्षा अधिकारी से निर्धारित अवधि में कैंप शुरू कराने व संचालन की सूचना विभागीय मेल पर उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

बच्चों के चयन के लिए होगा प्रचार-प्रसार

बच्चों के चयन के लिए ब्लॉक व ग्राम प्रधान स्तर पर प्रचार-प्रसार किया जाएगा। इसके बाद बच्चों का स्वास्थ्य परीक्षण कर चयन किया जाएगा।

--------

ऐसे होगा चयन

6 से 14 वर्ष के- 60 बच्चे

²ष्टि दिव्यांग-24

मूक बधिर-36 बच्चे

.....

जिलेवार बच्चों की संख्या

बांदा-120

चित्रकूट, महोबा और हमीरपुर-180

....

ऐसे खर्च होगा बजट

शिक्षा, भोजन, विजिट और आवास- 18-18 लाख रुपये

भोजन-9.79 लाख रुपये

ड्रेस-1.26 लाख रुपये

वार्डेन वेतन-1.40 लाख रुपये

केयर टेकर व परिचारक वेतन-1.50 लाख रुपये

.....

बच्चों के ये कपड़े मिलेंगे

बच्चों को दो जोड़ी ड्रेस, एक नाइट ड्रेस, दो फुल स्वेटर, वूलेन कैप, अंडरगारमेंट्स, स्वेटर, चप्पल, जूते, मोजे, स्कूल बैग, तौलिया, साबुन, तेल, मंजन आदि उपलब्ध कराए जाएंगे।

----------

रखा जाएगा बच्चों की सेहत का ध्यान

प्रतिदिन के हिसाब से प्रति छात्र 60 रुपये निर्धारित किए गए हैं। मेन्यू के आधार पर बच्चों को सुबह का नाश्ता, दोपहर का भोजन, शाम का नाश्ता व रात के भोजन की व्यवस्था होगी। प्रतिदिन उन्हें दूध व फल के साथ हरी सब्जियां, मिठाई भी परोसी जाएगी। बीएसए खुद भोजन की गुणवत्ता परखेंगे।

------

कैंप का मुख्य उद्देश्य जरूरतमंद दिव्यांग बच्चों का शारीरिक-मानसिक उन्नयन करना है। इसके लिए जल्द बच्चों का चयन किया जाएगा।

अरविंद अस्थाना, जिला समन्वयक, समेकित शिक्षा

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस