जागरण टीम, बलरामपुर :

दिन भर तेज धूप के बाद शनिवार की आधी रात को मौसम ने करवट ले ली। करीब डेढ़ बजे तेज आंधी के साथ झमाझम बारिश से मौसम सुहाना हो गया। हालांकि शहर समेत ग्रामीण क्षेत्रों की बिजली गुल हो जाने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। रात में मौसम ठंडा होने से लोग चैन की नींद सोए, लेकिन सुबह बिजली न होने पर पानी के मोटर नहीं चल सके। महदेइया बाजार के कालू बनकट नबीनगर निवासी आलम बंजारा का कच्चा मकान क्षतिग्रस्त हो गया। गहरी नींद में सो रहे परिवार ने आंधी आने पर भागकर अपनी जान बचाई। मकान ढहने से बकरी की दबकर मौत हो गई। उधर बारिश के कारण सब्जी, गन्ना व मेंथा की फसलों को लाभ पहुंचा है। आम की फसल को नुकसान पहुंचने की बात कही जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों की बिजली गुल :

-तुलसीपुर रात में करीब डेढ़ बजे आई तेज आंधी-पानी से ग्रामीण क्षेत्रों की बिजली बेपटरी हो गई। रात में गुन हुई बिजली सुबह करीब 10 बजे बहाल हो गई। अवर अभियंता संतोष कुमार मौर्य ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में आपूर्ति होने वाली लाइन में करीब 45 बिजली के खंभे टूट गए हैं। सही करने के लिए कर्मचारी जुटे हुए हैं। गैसड़ी के मध्यनगरी, गुलरिहा समेत कई गांवों में सीमेंटेड खंभे टूटकर गिर जाने से बिजली आपूर्ति बाधित हो गई। राष्ट्रीय राजमार्ग, मझौली समेत कई स्थानों पर पेड़ जड़ से उखड़ गए हैं। चैपुरवा, साथी, ठकुरापुर के आम के बागवानों को बड़े पैमाने पर नुकसान हुआ है। कई जगह दुकानों के टिन शेड उड़ गए।

बारिश से लाभ तो कुछ नुकसान :

-तुलसीपुर के किसान मनीराम ने बताया कि भीषण गर्मी व तपिश से गन्ना सूख रहा था। सूखे खेतों की जुताई करने में भी दिक्कत आ रही थी। इस बारिश से काफी लाभ हुआ है। पेहर बाजार में आंधी व बारिश के कारण जगह-जगह पेड़ गिर गए हैं। बड़हरा गांव मे आम से लदा पेड़ गिर गया।

Edited By: Jagran