बलरामपुर : नगर के भगवतीगंज की ऐतिहासिक रामलीला में राम-भरत मिलाप का मंचन किया गया। भगवान राम व भरत का एक दूसरे के प्रति अगाध प्रेम देख दर्शक भावुक हो गए।

रामलीला का शुभारंभ भगवान श्री राम व भक्त हनुमान की आरती उतारकर की गई। रावण वध के बाद माता सीता व भाई लक्ष्मण को लेकर भगवान राम अयोध्या लौटे। नगर भ्रमण के बाद रामलीला मैदान पहुंचे जहां पर पहले से मौजूद अयोध्या वासियों ने सभी का स्वागत किया। इसके बाद भगवान राम की भरत से मुलाकात होती है। रोते हुए भरत ने भगवान राम से अपनी माता कैकई द्वारा किए गए व्यवहार के लिए क्षमा मांगते हैं। भगवान श्रीराम से अयोध्या का राज काज चलाने का निवेदन करते हैं। भगवान राम ने भरत को गले से लगा लिया। यह भावुक ²श्य देख लोगों की आंखें नम हो गई। उधर ललिया क्षेत्र के 1008 जय मोहन बाबा मंदिर परिसर में चल रहे रामलीला मंचन के अंतिम दिन भरत मिलाप और राजतिलक का अभिनय कलाकारों ने किया। यहां सभी कलाकारों को अंग वस्त्र भेंट कर उन्हें सम्मानित किया गया। शिवप्रसाद यादव, गिरिजा दयाल जायसवाल, दीनबंधु वर्मा, त्रियुगी नारायण द्विवेदी, अरूण कुमार यादव, महाराज बलि तिवारी, राजेश ओझा, सत्यदेव शुक्ल, पंकज, कृष्ण देव मौजूद रहे। टंकी निर्माण अधूरा, दूषित पानी पी रहे ग्रामीण

श्रीदत्तगंज (बलरामपुर) :

पाइप लाइन से घर-घर शुद्ध पानी देने की योजना श्रीदत्तगंज ब्लाक में पूरी होती नहीं दिख रही है। तीन साल पहले पांच ग्राम पंचायतों में पानी टंकी का निर्माण कार्य शुरू किया गया था। ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल मिलने की आस जगी थी, लेकिन जिम्मेदार अफसरों की लापरवाही से पानी टंकी का निर्माण अधूरा रह गया।

ग्राम पंचायत पिपरी कोल्हई, रामपुर बगनहा, खरदौरी, जीतनगर, पिपरी समेत अन्य गांवों में पानी टंकी का निर्माण पूरा नहीं हो सका है। इन गांवों के करीब 10 हजार की आबादी को योजना का लाभ मिलता। सुरेश कुमार, विनय, सलीम का कहना है कि कई बार अधिकारियों को अवगत कराया गया, लेकिन कुछ नहीं हुआ। इससे ग्रामीणों को शुद्ध पेयजल नहीं मिल रहा है। गांव में लगे अधिकांश हैंडपंप दूषित पानी दे रहे हैं। खंड विकास अधिकारी अशोक दुबे का कहना है कि कार्यदायी संस्था को कार्य पूरा कराने का पत्र लिखा जाएगा।

Edited By: Jagran