जागरण संवाददाता, बांसडीहरोड (बलिया) : जिला मुख्यालय से महज एक किलोमीटर दूर बलिया-बांसडीह मार्ग पर परिखरा व तिखमपुर में लगभग पांच सौ मीटर से ज्यादा धूल उड़ाती सड़क आज वर्षों से आवागमन करने वालों के लिए मुसीबत बनी हुई है। सड़क निर्माण के बीच फंसे तकनीकी पेंच के बीच विभाग व ठेकेदार ने काम तो शुरू कर दिया लेकिन आज काफी अरसे से उक्त सड़क पर उड़ती धूल की आंधी व गिट्टियों की थरथराहट रोजाना हजारों लोगों को हलकान करती रहती है। सबसे ज्यादा उक्त सड़क पर बाइक सवारों व खुली गाड़ियों के सवारियों को परेशानी हो रही है। थोड़ी ही देर उक्त पथरीली सड़क पर चलने वाला या तो धूल के गुबार की भेंट चढ़ जाता है या इस रास्ते पर अपने आगमन पे खुद को कोसता हुआ दोबारा इस पर न आने की बात सोचता है। जबकि जनपद की व्यस्त सड़कों में से एक इस सड़क पर रोजाना इस धूल भरी गुबार को झेलने वाले लोगों की आपबीती सुनकर हर कोई इस समस्या पर काफी तीखी प्रतिक्रिया देता है। बावजूद इसके निर्माण को लेकर फंसे पेंच को सुलझाने व लोगों को राहत मिलने के आसार दूर-दूर तक दिखाई नहीं दे रहे। आलम यह है कि ये सड़क अब इस राह के राहगीरों के लिए एक डेंजर जोन बन चुकी है जिसे याद कर इस सड़क पर चलने वाला सिहर उठता है। लोगों की मांग है कि जब तक विभाग सड़क का निर्माण करवाए तब तक धूल व कंकड़ से तो इसे मुक्त कराया ही जाए।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस