जागरण संवाददाता, बलिया: जिला पंचायत के सभागार में मंगलवार को सदस्यों की बैठक अनंत मिश्रा के की अध्यक्षता में हुई। इसमें जिला पंचायत सदस्यों ने अध्यक्ष सुधीर पासवान तथा लिपिक राजीव सिंह के खिलाफ फर्जी मुकदमे दर्ज कराने के विरोध किया। कहा कि यह प्रशासन की मनमानी का पुख्ता साबूत है। जिला पंचायत सदस्यों ने जिलाधिकारी के इस निर्णय को बेबुनियाद बताया। कहा कि उनके इस कृत्य से जनपद के लोगों में आक्रोश व्याप्त है। कहा कि जिलाधिकारी पूरी तरह से दलित विरोधी हैं। जिला पंचायत के विकास को बार-बार अवरोध करने का काम किया है। इससे पूरे जनपद में विकास ठप पड़ा हुआ है। जिला पंचायत सदस्य संजय यादव ने कहा कि पिछले दो साल यानी 2018-2019 तथा 2019-2020 की धनराशि रहते हुए भी जिले में विकास कार्य अवरुद्ध है। जिलाधिकारी जांच के नाम पर लगातार जिला पंचायत के विकास को अवरुद्ध किए हुए है। सदस्यों ने चेताया कि अगर फर्जी मुकदमे को वापस नहीं किया गया तो सदस्यों का एक प्रतिनिधिमंडल मुख्यमंत्री से मुलाकात कर आंदोलन के लिए बाध्य होगा। इस मौके पर रवि यादव, निर्जला सिंह, संजय भारती, चंद्रशेखर सिंह, संजय यादव, अनंत मिश्र, सत्यप्रकाश जयसवाल, शीला यादव, अमित यादव, जितेंद्र यादव, हाकिम पासवान, मनीषा सिंह, अर्चना सिंह, पम्मी प्रकाश सिंह, मनीषा सिंह, कौशल राय, कमला राजभर, अजय यादव, विजय शंकर यादव, रामजी यादव, अमरजीत यादव, हरेंद्र यादव, कविता, दुर्गावती वर्मा आदि मौजूद थीं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप