जागरण संवाददाता, श्रावस्ती: ठंड के मौसम की शुरुआत से पहले सोमवार की सुबह कोहरे ने दस्तक दे दी। तड़के कोहरे की घनी चादर के चलते वाहन चालकों को हेडलाइट जलाकर चलना पड़ा। मौसम के इस बदले मिजाज से लोगों को ठंड का अहसास भी हुआ।

आबादी वाले क्षेत्र में तो काहरे का असर कम रहा। लेकिन आबादी से बाहर सर्दी के मौसम से पूर्व छाया घना कोहरा लोगो के कौतूहल का विषय बन गया। कोहरे से तापमान में गिरावट आई, जिससे मौसम तो खुशगवार हुआ लेकिन वाहन चालकों के लिए यह कोहरा परेशानी का सबब भी बना। भिनगा-बहराइच राजमार्ग पर दिन में भी वाहन चालकों को हेडलाईट जलाकर धीमी गति से वाहन चलाना पड़ा। दोपहर को निकली हल्की धूप निकलने पर लोगों ने राहत की सांस ली।

जल्द कोहरा गिरने से धान की अधपकी फसल को नुकसान होने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। ऐसे किसानों के चेहरों पर मायूसी भी देखी गई। कृषि विशेषज्ञ गौतम कुमार, अमरेश कुमार का कहना है कि धान की जो फसल पक गई है, उसे इस कोहरे से नुकसान नहीं होगा। लेकिन जो अधपकी फसल है, उसे इस कोहरे से नुकसान हो सकता है। यदि कोहरे का प्रकोप बढ़ता है तो ऐसी फसल का दाना पूर्ण विकसित नहीं हो पाएगा।

------------

यह रहा मौसम का हाल

सोमवार दिन का अधिकतम तापमान 28 डिग्री सेल्सियस और न्यूनतम तापमान 17 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम में नमी का प्रतिशत अर्थात आद्रता 52 प्रतिशत रही। दिन में पश्चिमी दिशा से 13 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवा चलती रही।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप