जासं, श्रावस्ती: वन विभाग की एक टीम ने भिनगा क्षेत्र के गांव से चीतल के मांस और उसके अवशेषों के साथ दो लोगों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त की है। चीतल का शिकार किस जंगल में किया गया है। इसको लेकर जांच शुरू हो गई है।

प्रभागीय वनाधिकारी एपी यादव को मुखबिर से सूचना मिली कि भिनगा रेंज की चैपुरवा ग्राम पंचायत के मजरा लोनपुरवा निवासी राम फेरन मौर्या के घर पर चीतल का मांस रखा हुआ है। यह लोग इसे पकाने और अवशेषों को नष्ट करने की फिराक में हैं। इस पर उन्होंने सोमवार की रात ही ककरदरी रेंज के क्षेत्रीय वनाधिकारी आरके तिवारी के नेतृत्व में एक टीम को लोनपुरवा गांव भेजा। टीम ने गांव के राम फेरन मौर्या के घर की छत पर करीब 12 किलोग्राम मांस के साथ ही चीतल का सर और पांव आदि बरामद किया। टीम ने मौके से ही रामफेरन मौर्या पुत्र छेदी और नानगोड़े साईं पुत्र हसन अली को भी गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की। दोनों अभियुक्तों के खिलाफ वन्य जीव अधिनियम के तहत कार्रवाई कर अदालत के समक्ष पेश किया गया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया है।

छापामार टीम में वन दरोगा आरके तिवारी, ओपी सिंह, बलराम गौड़, आरपी सिंह, मनोहर सरोज, योगेंद्र प्रताप यादव सहित कई वन रक्षक शामिल रहे। इस चीतल का शिकार भिनगा अथवा सोहेलवा किस जंगल में किया गया है, और शिकार करने में कौन-कौन लोग शामिल रहे हैं, इसकी जांच के लिए उप प्रभागीय वनाधिकारी आरके श्रीवास्तव को नामित किया गया है। उन्होंने बताया कि जांच पूरी होते ही अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस