बागपत, जेएनएन। आइजी मेरठ ने वार्षिक निरीक्षण के दौरान अधीनस्थों को फरियादियों से अच्छा आचरण करने तथा अपराधियों को जेल भेजने की नसीहत दी। हालांकि आइजी के आते ही एसपी कार्यालय व कोतवाली से फरियादी गायब हो गए। आइजी के जाते ही एसपी कार्यालय व कोतवाली में फरियादी नजर आने लगे। ऐसे में माना जा रहा है कि आइजी के सामने आने से फरियादियों को रोका गया। हालांकि इस संबंध में किसी फरियादी ने कोई शिकायत नहीं की।

आइजी प्रवीण कुमार ने मंगलवार सुबह बागपत पहुंचकर पूर्व प्रस्तावित वार्षिक निरीक्षण किया। सबसे पहले पुलिस लाइन पहुंचकर सलामी ली। इसके बाद उन्होंने यूपी 112 की गाड़ियों, क्वार्टर गार्ड, कर्मचारी बैरक, मैस आदि का निरीक्षण किया। इसके पश्चात पुलिस कार्यालय में सभी शाखाओं में साफ-सफाई, अभिलेखों का रख-रखाव आदि देखा। बाद में बागपत कोतवाली व खेकड़ा थाने का निरीक्षण किया। उन्होंने कहा कि साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें। अभिलेखों का रखरखाव ठीक होना चाहिए। लंबित विवेचनाओं का जल्द से जल्द निस्तारण किया जाए। इनामी व वांछित अपराधियों को जल्द से जल्द गिरफ्तार करें। फरियादियों से थानों में अच्छा आचरण कर उनकी शिकायतों का गुणवत्तापूर्ण निस्तारण करें, ताकि फरियादियों को उच्चाधिकारियों के पास न जाना पड़े। वहीं एसपी कार्यालय, कोतवाली व थानों में दिन निकलते ही फरियादियों की भीड़ लग जाती है। आइजी के निरीक्षण के दौरान फरियादी थानों व एसपी कार्यालय में नजर नहीं आए। आइजी के जाने के बाद वहां पर फरियादी पहुंच गए। ऐसे में यह माना जा रहा है कि आइजी के सामने आने से फरियादियों को रोका गया। हालांकि इस संबंध में किसी फरियादी ने कोई शिकायत नहीं की।

------- कोरोना से बचाव को रहें सतर्क

आइजी ने कोविड हेल्प डेस्क का निरीक्षण किया। अवगत कराया कि थाने व कार्यालय आने वाले प्रत्येक व्यक्ति का तापमान चेक करें। पुलिसकर्मी भी कोविड गाइडलाइन का पालन करें।

Edited By: Jagran