बागपत, जेएनएन। बुधवार को राष्ट्रीय लोकदल के कार्यकर्ताओं ने कलक्ट्रेट पर धरना देकर प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। कार्यकर्ताओं ने कहा कि सरकार ने विद्युत दरें बढ़ाकर किसान व आम जनता की कमर तोड़ने का काम किया है। जिलाध्यक्ष सुखवीर सिंह गठीना ने कहा कि प्रदेश सरकार ने 2017-18 में विद्युत दरों में दो से ढाई गुना वृद्धि की थी अब उन्हीं दरों पर 12 से 15 प्रतिशत तक की वृद्धि करके किसानों, मजदूरों व्यापारियों व आम जनता की कमर तोड़ने का काम किया है। रालोद इसका विरोध कर इस निर्णय को वापस लेने की मांग करता है। जब तक किसानों का गन्ना भुगतान नहीं हो जाता तब तक किसानों से कोई वसूली नहीं की जाए। सरकार ने गन्ना किसानों का भुगतान 14 दिन के अंदर करने का वादा किया था लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। बागपत जनपद का लगभग 300 करोड़ रुपए गन्ना किसानों का मिलों पर शेष है। इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा मोटर वाहन अधिनियम के तहत चालान शुल्क में की गई वृद्धि वाहन चालकों के साथ अन्याय है, इसे वापस लिया जाए, बैंकों के विलय से बेरोजगारी बढ़ेगी, डीजल पेट्रोल के दाम लगातार बढ़ रहे, किसानों की कर्ज माफी की एक लाख रुपए की सीमा को बढ़ाकर पांच लाख किया जाए सहित विभिन्न मांगों का ज्ञापन डिप्टी कलेक्टर रामनयन को दिया। इस दौरान पूर्व मंत्री डा. मैराजुद्दीन, पूर्व विधायक वीरपाल राठी, अमित जैन, ओमवीर ढाका, नीरज पंडित, सतीश चौधरी, अजहर खान, धीरज उज्ज्वल, चेयरमैन रामकुमार सिंह, ओमवीर सिंह, विशम्बर, रामपाल धामा, संजीव कुमार मान, अशोक कुमार आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस