बागपत, जेएनएन : इंटरनेट पर रटौल के विख्यात आम को देखकर दिल्ली से एक अमेरिकन महिला शनिवार को रटौल के आम बागान में पहुंची। उन्होंने आम का स्वाद लेकर बागान की सैर कर इस संबंध में जानकारी जुटाई।

यूं तो आम को फलों का राजा कहा जाता है। यदि जिक्र रटौल के विख्यात आम की हो तो बात ही अलग है। दिल्ली में रहने वाली अमेरिका के वाशिगटन शहर की किमला आसिम ने गूगल पर आम की जानकारी की तो उन्हें रटौल आम का पता लगा। इसके बारे में पढ़कर शनिवार को वह रटौल के बागान में पहुंचीं। वहां उनकी मुलाकात रटौल के जैद मोहम्मद से हुई। बागान में घूमने की इच्छा जाहिर की तो उन्होंने रटौल के आम बागान की सैर कराई। इसके बाद विख्यात रटौल आम का स्वाद भी चखा। उन्होंने कहा कि रटौल जैसा स्वाद किसी दूसरे आम में नहीं है। बागान में इमरान, बाबू, नोमान, जुगनू आदि ने उनका स्वागत किया। इसके बाद आम की पैदावार से खर्च व बिक्री तक की जानकारी दी गई। बताया कि आखिरी सीजन चल रहा है। कुछ समय पहले आते तो 100 से अधिक किस्म बागान में मिलती। दोबारा सीजन में आने की बात कहकर महिला दिल्ली लौट गई।

क्रिकेट खिलाड़ी रजिस्ट्रेशन अब

पांच अगस्त तक कराएं

बड़ौत : जिला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष विश्वास चौधरी ने बताया कि उत्तर प्रदेश क्रिकेट एसोसिएशन के अंतर्गत सभी आयु वर्ग के क्रिकेट खिलाड़ियों (पुरुष व महिला) की पंजीकरण प्रक्रिया की अंतिम तिथि 31 जुलाई निर्धारित थी, जिसे अब बढ़ाकर पांच अगस्त कर दिया गया। खिलाड़ी अधिक जानकारी के लिए कोताना रोड बड़ौत स्थित विजयी भव क्रिकेट एकेडमी पर कोच सुधीर कुमार आर्य से संपर्क कर सकते हैं। संस

अक्षय के स्वजन को सांत्वना नहीं देकर गए मुख्यमंत्री

बड़ौत : रालोद के राष्ट्रीय सचिव व संकल्प पत्र निर्माण समिति के सदस्य सुखबीर सिंह गठीना ने कहा कि पुलिस उत्पीड़न में अपनी जान गंवाने वाले रंछाड़ निवासी अक्षय के स्वजन को मुख्यमंत्री सांत्वना देने भी नहीं पहुंचे, जबकि वह बागपत का दौरा करके गए हैं। यह बहुत दुखद है। शासन की उदासीनता के कारण ही प्रदेश की पुलिस बेलगाम हो गई है और आए दिन पुलिस द्वारा जनता का उत्पीड़न किया जा रहा है। मुख्यमंत्री के दौरे से गन्ना किसानों को भी निराशा मिली है। जासं

Edited By: Jagran