उसहैत : बेसिक शिक्षा विभाग में कार्रवाई का निर्देश होने के बाद भी कार्रवाई नहीं की जाती। जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी की ओर से निर्देश जारी होता है, लेकिन विकास क्षेत्र स्तर पर लापरवाही बरती जाती है। विकास क्षेत्र उसावां के खंड शिक्षा अधिकारी ने भी लापरवाही बरती। नियम विरूद्ध नौकरी कर रहे शिक्षामित्रों पर मुकदमा कराने के निर्देश का पालन नहीं किया तो बीएसए ने उच्चाधिकारियों से उदासीनता व लापरवाही की शिकायत करने की चेतावनी दी तब जाकर शिक्षक व शिक्षामित्रों पर मुकदमा दर्ज कराया गया है।

दस्तावेज में हेराफेरी करके नौकरी करने वाले पांच शिक्षक-शिक्षामित्रों को बर्खास्त किया गया था। बीएसए ने संबंधित पर एफआइआर कराके रिकवरी का निर्देश दिया था, लेकिन खंड शिक्षा अधिकारी ने निर्देश की लगातार अनदेखी की। बीएसए ने पांच नवंबर को चेतावनी का लेटर जारी करके निर्देश दिया कि प्राक्कलन समिति की बैठक में शेखूपुर विधायक धर्मेंद्र शाक्य ने बेसिक शिक्षा निदेशक भी प्रगति आख्या मांगी, लेकिन कोई जवाब नहीं दिया जा सका। जिसके बाद खंड शिक्षा अधिकारी ने मंगलवार को प्राथमिक विद्यालय खेड़ाजलालपुर में तैनात रहे आशीष कुमार, प्राथमिक विद्यालय लिलवां के शैलेंद्र ¨सह, खिरिया हिमायुं के अवधेश वर्मा के अलावा प्राथमिक विद्यालय भुंडी के शिक्षामित्र अवधेश यादव व मंजू यादव के खिलाफ दस्तावेज में हेराफेरी करके नौकरी करने का मुकदमा दर्ज कराया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप