जेएनएन, बदायूं : जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या बढ़ने लगी है। इसके रोकथाम के लिए डीएम ने सख्ती की, तो स्वास्थ्य महकमा भी हरकत में आया है। अब सभी सीएचसी पर डेंगू वार्ड बनवाने का निर्णय लिया गया है। जबकि अभी तक सिर्फ जिला अस्पताल में एक मात्र डेंगू वार्ड बना था। इससे डेंगू के मरीजों को सीएचसी पर भी भर्ती किया जा सके।

कोरोना काल में मच्छर जनित बीमारियों से निपटने को डीएम ने सख्ती दिखाई है। मलेरिया प्रभावित गांवों में विशेष सफाई अभियान शुरू कराया तो गांव-गांव कैंप लगाकर मलेरिया की जांच शुरू कराई। आशा वर्कर और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं को घर-घर जाकर मलेरिया की जांच के निर्देश दिए। काफी संख्या में जांच होने से मरीजों की संख्या बढ़ी। करीब 17 हजार मलेरिया के मरीज सामने आए। मौसम के बदलाव के साथ डीएम ने डेंगू फैलने का अंदेशा जाहिर करते हुए कहा था कि सभी गांव में पहले ही जांच शुरू कराई जाए। इसके बाद भी स्वास्थ्य विभाग लापरवाही बरत रहा था। संदिग्ध मरीजों की संख्या बढ़ी तो सात लोगों में डेंगू पुष्टी हुई। इस पर डीएम ने अफसरों की फटकार लगाई। इसके बाद वजीरगंज ब्लॉक के कस्बा सैदपुर में रोजाना कैंप लग रहा है तो शहर में नेकपुर और महाराज नगर में शिविर लगाए जा रहे हैं। अब मरीजों की संख्या बढ़े तो उनको भर्ती कहां रखा जाए इस दिशा में गंभीरता दिखाई जा रही है। अब सभी सीएचसी पर पहली बार डेंगू वार्ड बनने जा रहे हैं। वर्जन ..

डेंगू के मरीजों की बढ़ती संख्या को देखते हुए सभी सीएचसी पर जांच और मरीजों को भर्ती करने को अलग वार्ड तैयार करने के निर्देश दिए हैं। जांच ज्यादा से ज्यादा कराई जा रही हैं ताकि समय रहते मरीजों को इलाज मिल सके।

- कुमार प्रशांत, डीएम

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021