बदायूं : युवा क्रांतिकारी छात्र संगठन ने सोमवार को शहीद चंद्रशेखर आजाद की जयंती मनाई। इस दौरान हुई विचार गोष्ठी से पहले संस्थापक पुनीत कश्यप ने चंद्रशेखर के चित्र पर माल्यार्पण किया। कहा कि 13 साल की उम्र से चंद्रशेखर को आंदोलन के दौरान गिरफ्तार किया गया था। मजिस्ट्रेट ने उनसे नाम पूछा तो आजाद बताया और पिता का नाम स्वाधीनता घर का पता जेल बताया था। उन्हें 15 दिन की सजा सुनाई थी। तभी से उनके नाम के आगे आजाद लगा था।

जिला कार्यालय पर हुई गोष्ठी में संस्थापक ने कहा कि आजाद ने स्वाधीनता संग्राम की नई परिभाषा लिखी थी। जिलाध्यक्ष अरुण पटेल ने कहा कि जिस पेड़ के नीचे वह शहीद हुए वहां अभी भी लोग श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं। सभी ने आजाद के पदचिह्नों पर चलकर देशसेवा करने का संकल्प लिया। इस मौके पर जिला संयोजक योगेंद्र सागर, मोहम्मद इमरान, कुनाल राठौर, अनुराग जौहरी, चिराग मिश्रा आदि मौजूद रहे।

चंद्रशेखर जयंती पर मेधावी बच्चों को किया सम्मानित फोटो 23 बीडीएन - 07

जासं, बदायूं : अंबियापुर क्षेत्र के गांव दबिहारी स्थित उच्च प्राथमिक और प्राथमिक विद्यालय में महान क्रांतिकारी चंद्रशेखर आजाद और स्वतंत्रता सेनानी लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की जयंती पर मेधावी बच्चों को सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि कानूनगो विजयवीर ¨सह ने कहा कि बच्चों श्रेष्ठ संस्कार पाकर देश के सर्वश्रेष्ठ नागरिक बनें। गायत्री परिवार के संजीव कुमार शर्मा, निर्मल गंगा जन अभियान के सुखपाल शर्मा ने चंद्रशेखर आजाद के जीवन से जुड़े प्रेरक प्रसंग सुनाए।

इं.प्रधानाध्यापक थान ¨सह, प्रावि के प्रधानाध्यापक सुशील कुमार ने मेधावी छात्रा राखी, विश्वमोहन, आकाश बाबू, सोनी, सोनप्रताप, हरवेंद्र और प्राथमिक विद्यालय के छात्र हर्ष, शशिलता, अंजलि, आदित्य, रानी आदि बच्चों को गायत्री मंत्र का पटिका पहनाकर सम्मानित किया गया। इस मौके पर शिक्षिका मणि पाराशरी, दीप्ति चौधरी, पूनम देवी, रेखा शर्मा, पप्पू ¨सह चौहान, सियाराम, भवेश शर्मा, देवेंद्र पाल आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस