बदायूं, जेएनएन। जिला प्रशासन और पुलिस के लाख प्रयास के बाद भी मीरा सराय में शराब बनाने वाले लोग सुधरने का नाम नहीं ले रहे। बीते दिनों यहां जागरूकता अभियान चलाया गया था। इसके चलते ही जिला आबकारी अधिकारी खुद यहां के लोगों से बात करने पहुंचे थे। लेकिन गांव में आते ही शराब की बदबू आने लगी। 

दबिश देकर घरों को खंगाला गया तो यहां शराब पाई गई। जिस पर काफी नाराजगी व्यक्त करते हुए एक आरोपित को गिरफ्तार किया गया। जिले में अन्य स्थानों पर दबिश देकर कुल 60 लीटर शराब और 500 किग्रा लाहन नष्ट किया गया। 

पूरे प्रदेश में चल रहे शराब के खिलाफ अभियान के मद्देनजर सोमवार को जिला आबकारी अधिकारी ने टीमें बनाकर सभी को दबिश के निर्देश दिए थे। उन्हें जानकारी मिली थी कि शराब बनाने वाली एक बस्ती के लोगों को समाज की मुख्य धारा से जोड़ने का प्रयास चल रहा है। 

मीरा सराय में धधकती मिली शराब की भट्‌टी

इस पर आबकारी अधिकारी राजेश तिवारी खुद टीम के साथ वहां पहुंचे। वह लोगों से बात करने गए थे। लेकिन वहां पहुंच कर निराशा हाथ लगी। मीरा सराय में शराब का काम हो रहा था और भट्टी धधक रहीं थी। डिब्बों में लाहन तैयार कर के रखा गया था। उन्होंने वहां मिली महिलाओं की जमकर फटकार लगाते हुए आगे बड़ी कार्रवाई करने की चेतावनी दी। 

व्यापक पैमाने पर हुई कार्रवाई

पुलिस ने यहां से 20 लीटर शराब और 200 किग्रा लाहन बरामद किया। जिसे मौके पर ही नष्ट करा दिया गया। इसके अलावा जिले के दातागंज, इस्लामनगर, वजीरगंज में भी दबिश दी गई। जिले भर में कुल 60 लीटर शराब और 500 किग्रा लाहन बरामद कर नष्ट कराया गया। 

शराब ठेकों पर छापेमारी

इसके बाद शाम को जिला आबकारी अधिकारी ने शहर और देहात के शराब ठेकों पर छापा मारा। जहां शराब की बिक्री का तरीका, ई पास मशीन से शराब की बिक्री, स्टॉक रजिस्टर आदि का मिलान किया। 

जारी रहेगा अभियान

जिला आबकारी अधिकारी राजेश तिवारी ने बताया कि अभियान अभी जारी रहेगा। जिले में जहां भी कच्ची शराब बनाई जा रही है, उन स्थानों पर नजर रखी जा रही है। लगातार दबिश देकर शराब बरामद और लहन को नष्ट कराया जा रहा है।

Edited By: Ankit Gupta

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट