जासं, आजमगढ़ : किरायेदारी के विवाद में सोमवार तड़के दंपती को गोली मार दी गई। गोलीकांड की भनक लगते ही पुलिस पहुंची तो रक्तरंजित दोनों को लेकर अस्पताल भागी। एक निजी अस्पताल में दोनों ने कुछ देर के अंतराल पर दम तोड़ दिया। मृत युवक के भाई ने मकान मालिक व उसके बेटा के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया तो पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। एसपी प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह हॉस्पिटल पहुंच पीड़ित पक्ष से असलियत जानने को बातचीत की।

अहरौला थाना क्षेत्र के विशुनपुरा असलाई गांव के मूल निवासी संजीव कुमार सिंह (42) पुत्र भानु प्रताप सिंह शहर के अतलस पोखरा निवासी राकेश राय के मकान में छह-सात वर्ष से किराये पर कमरा लेकर पत्नी साधना (38) व बेटे आकाश के साथ रहते थे। संजीव की सिविल लाइन मोहल्ला में मोटर पा‌र्ट्स की दुकान है। दोनों पक्षों में किरायेदारी का विवाद सामने आया है। जिसके रंजिश में रॉकेश राय उनके पुत्र नितिश राय ने तड़के साढ़े चार बजे गोली मार दी। गोली चलने की आवाज सुनकर पास-पड़ोस के लोगों की घर के बाहर भीड़ इकट्ठा हो गई। कोतवाली पुलिस पहुंची तो गोली पेट में लगने से पति-पत्नी रक्तरंजित पड़े थे। दोनों के पेट से तेज रक्तश्राव हो रहा था। जिला अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद रेफर किए गए तो शहर में सिधारी स्थित एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान दोपहर में 12.30 बजे संजीव की तो शाम में करीब चार बजे साधाना की मौत हो गयी। मृतक संजीव के छोटे भाई ध्रुव सिंह ने भी किरायेदारी का विवाद दर्शाते हुए तहरीर दी। उधर दंपती की मौत से परिवार में कोहराम मच गया। संजीव का इकलौता पुत्र आकाश सिंह (15) कुछ दिन पूर्व अपने गांव गए हुए थे। फील्ड यूनिट की टीम भी छानबीन को पहुंच गई थी। एसपी सिटी पंकज कुमार पांडेय, सीओ सिटी इलामारन जी, शहर कोतवाल केके गुप्त पहुंच गए थे।

Posted By: Jagran

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस