जागरण संवाददाता, अंबारी (आजमगढ़): फूलपुर तहसील के एकलौते राजकीय बालिका इंटर कालेज अंबारी में शिक्षकों की बड़े पैमाने पर कमी है। बाउंड्री की बात छोड़िए स्कूल परिसर से ही सार्वजनिक रास्ता निकाला गया है।इसके चलते अभिभावक छात्राओं की सुरक्षा को लेकर चितित रहते हैं।

भगवंती देवी राजकीय बालिका इंटर कालेज अंबारी की स्थापना 1977-78 में तत्कालीन मुख्यमंत्री रामनरेश यादव के कार्यकाल में कराया गया था। स्थापना के लगभग 42 साल बाद भी विद्यालय की सुरक्षा के लिए बाउंड्री का निर्माण नहीं कराया गया। विद्यालय परिसर से ही सार्वजनिक रास्ता भी बनाया गया है। इस रास्ते से दोपहिया से लेकर चार पहिया वाहन धड़ल्ले के फर्राटा भरते हैं। इसके चलते कभी भी कोई बड़ी घटना हो सकती है। क्षेत्रीय लोगों द्वारा कई बार तहसील दिवस में स्कूल की बाउंड्री निर्माण और परिसर के रास्ते को बंद करने की मांग की जा चुकी है, लेकिन विभागीय अधिकरियों का ध्यान इस तरफ नहीं जा रहा है। विद्यालय में प्रधानाचार्य एवं शिक्षकों के रहने के लिए आवास भी बनाया गया है, लेकिन यहां पर कोई नहीं रहता है। विद्यालय बंद होने के बाद सन्नाटा पसर जाता है। उधर छात्राओं को शिक्षा देने के लिए प्रधानाचार्य सहित कुल छह शिक्षिकाओं की ही नियुक्ति है। इंटरमीडिएट की कक्षाओं में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीवविज्ञान सहित महत्वपूर्ण विषयों के शिक्षक ही नहीं हैं। यही हाल हाईस्कूल की कक्षाओं का भी है। आलम यह है कि स्कूल की रखवाली करने वाला कोई भी नहीं है। कुछ दिन पहले स्कूल की वायरिग और पंखे तक चोर उठा ले गए थे। प्रधानाचार्य गायत्री प्रजापति का कहना है कि जो भी समस्या है उसे अधिकारियों को ही बताएंगी।

Edited By: Jagran