-कार्रवाई :::

-मोबाइल की बरामदगी के दौरान पुलिस पर फायर कर की थी भागने की कोशिश

-नहर के किनारे दफन शव व मोबाइल फोन बरामद

-रुपये के लिए अपहरण के बाद आरोपित ने कर दी हत्या

जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : मेंहनगर में युवक की अपहरण के बाद हत्या और उसका शव नहर के किनारे दफनाने वाला आरोपित बुधवार की शाम पुलिस मुठभेड़ में घायल हो गया। उसके दाहिने पैर में गोली लगने के बाद जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है।

इस मामले में मृत ओजस्व राजभर के शिक्षक पिता ओमप्रकाश राजभर ने मंगलवार को मुकदमा दर्ज कराया था।

मूल रूप से बलिया जिले के बांसडीह थाना क्षेत्र के आदर गांव निवासी ओमप्रकाश शिक्षा क्षेत्र पल्हना के प्राथमिक विद्यालय टिसौरा में सहायक अध्यापक हैं और मेंहनगर के वार्ड नंबर 10 में किराए का मकान लेकर रहते हैं। उन्होंने मंगलवार की शाम पुलिस को सूचना दी कि ओजस्व राजभर सोमवार की शाम साढ़े पांच बजे घर से सामान लेने बाजार गया, लेकिन वापस नहीं आया। पुलिस ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरू की तो गौरा गांव के वतन सिंह उर्फ राजा का नाम प्रकाश में आया। पुलिस ने आरोपित को गिरफ्तार कर उसकी निशानदेही पर मृतक का शव ग्राम गौरा के पास नहर के किनारे से बरामद किया। पूछताछ के बाद मृतक की मोबाइल बरामद कराने के लिए आरोपित पुलिस के साथ खुंदनपुर जाने वाली सड़क किनारे खंडहर में गया। पुलिस के अनुसार वहीं पर छिपाकर रखे तमंचे से पुलिस पर फायर कर भागने की कोशिश की, तो पुलिस की जवाबी कार्रवाई में घायल हो गया।

-------------

पैसे की लालच में दोस्त बन गया जान का दुश्मन

आजमगढ़ : मेंहनगर में ओजस्व की हत्या कर शव को नहर किनारे दफन करने वाला उसका दोस्त ही निकला। पूछताछ में आरोपित ने बताया कि मृतक से दोस्ती थी और साथ उठना-बैठना होता था। ओजस्व के पिता अध्यापक और पैसे से संपन्न हैं। पैसे की लालच में मैंने ओजस्व की हत्या कर शव को नहर के किनारे दफन कर दिया और मोबाइल को खुंदनपुर जाने वाली सड़क किनारे खंडहर में छिपा दिया था। शव को ठिकाने लगाने के बाद मृतक के पिता से पैसे की मांग करता कि पकड़ लिया गया।

Edited By: Jagran