आजमगढ़ : नेपाल के भुतहा बाजार में गुरुवार की रात गोली से मार दिया गया इंडियन मुजाहिदीन का सरगना खुर्शीद अंसारी उर्फ खुर्शीद आलम के तार जिले के आतंकियों से भी जुड़े हुए हैं। प्रदेश के कचहरी में हुए बम ब्लास्ट के आरोपित से लेकर बाटला एनकाउंटर के आतंकी भी उसके संपर्क में थे। इस बात की जानकारी होने के बाद जिले में खुर्शीद के नेटवर्क को तलाशने में खुफिया विभाग के अधिकारी जुटे हुए हैं।

बाटला एनकाउंटर की घटना के बाद से ही फरार चल रहे इंडियन मुजाहिदीन के सहायक चीफ अब्दुल सुहान कुरैशी उर्फ तौकीर व आरिज खान उर्फ जुनैद को आठ माह पूर्व नेपाल में गिरफ्तारी हुई थी। आरिज उर्फ जुनैद इसी जिले के बिलरियागंज थाना क्षेत्र का ही मूल निवासी है। गिरफ्तार किए गए दोनों आतंकियों ने उसी दौरान ही नेपाल में खुर्शीद आलम के साथ होने की बात का खुलासा किया था। उन्होंने यह भी खुलासा किया था कि खुर्शीद आलम ही भारत से भागे आतंकियों को नेपाल में शरण देता है। नेपाल में बैठे खुर्शीद का सीधा संपर्क इंडियन मुजाहिदीन के सरगनाओं के साथ ही पाकिस्तान के खुफिया एजेंसी आइएसआइ के भी संपर्क में था। वह गोरखपुर, फैजाबाद, वाराणसी, लखनऊ कचहरी में हुए बम धमाके के आतंकी मोहम्मद तारिक भी इसके संपर्क में था। मोहम्मद तारिक इसी जिले के रानी की सराय थाना क्षेत्र के सम्मोपुर गांव का मूल निवासी है।

इसी प्रकार से जयपुर, अहमदाबाद व दिल्ली के बाटला बम ब्लास्ट में शामिल आतंकी सलमान शेख, डाक्टर शहनवाज, बड़ा साजिद, मोहम्मद खालिद व अबू राशिद भी खुर्शीद के शरण में भारत से भागकर नेपाल में रह रहे थे। इंडियन मुजाहिदीन के उक्त सभी आतंकी भी इसी जिले के अलग-अलग क्षेत्रों के ही निवासी हैं। खुर्शीद के मारे जाने के बाद आजमगढ़ एक बार फिर से सुर्खियों में आ गया है। खुर्शीद का नेटवर्क इस जिले से भी जुड़ा हुआ है। खुर्शीद के जिले से जुड़े नेटवर्क को तलाशने में खुफिया विभाग के अधिकारी जुटे हुए हैं।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस