आजमगढ़ : सरायमीर दंगे का फरार चल रहे दूसरे मुख्य आरोपित को भी सरायमीर थाने की पुलिस ने संजरपुर चौराहा के समीप से गिरफ्तार कर लिया। उसके खिलाफ गैंगस्टर समेत कई धाराओं में मुकदमे दर्ज हैं।

सोशल मीडिया पर धार्मिक टिप्पणी करने का मैसेज वायरल होने की बात को लेकर लोग आक्रोशित हो गए थे। आक्रोशित लोगों ने 28 अप्रैल को नारेबाजी करते हुए सरायमीर थाने पर पहुंचे थे। थाने का घेराव करने के बाद वे थाने में घुस गए और तोड़-फोड़ करने लगे। इसके बाद सरायमीर पुलिस बूथ पर भी पहुंच कर तोड़-फोड़ की और आग लगा दी थी। उपद्रवियों ने पथराव कर कई वाहनों को भी क्षतिग्रस्त कर दिया था। बैंक शाखा में भी तोड़-फोड़ किया था। देखते ही देखते सरायमीर कस्बा में भड़के दंगे को नियंत्रित करने के लिए पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ी थी। इस दंगे के आरोपितों के खिलाफ पुलिस ने तोड़-फोड़, आगजनी, उपद्रव करने समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज किया था। इसी के साथ ही दंगे के मुख्य आरोपितों पर पुलिस ने गैंगस्टर एक्ट के तहत भी कार्रवाई की थी। एक पखवारा पूर्व सरायमीर पुलिस ने सरायमीर दंगे के मुख्य आरोपित कलीम जामई को गिरफ्तार कर लिया था। जबकि दूसरे मुख्य आरोपित नदीम उर्फ बब्बल पुत्र मुन्नू ग्राम बीनापारा थाना सरायमीर निवासी को सरायमीर थानाध्यक्ष मनोज ¨सह ने संजरपुर चौराहा के समीप से गिरफ्तार कर लिया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस