जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : कमिश्नर विजय विश्वास पंत ने सोमवार को मंडल में धान खरीद की समीक्षा की। दो टूक शब्दों में निर्देश दिए कि अन्नदाताओं के धान का भुगतान 72 घंटे में करना सुनिश्चित करें। धान खरीद के साथ ही स्टैंसिल (मुहर) कराने पर विशेष जोर देते हुए स्पष्ट किए कि अनदेखी उजागर हुई तो जिम्मेदारों के खिलाफ निलंबन की संस्तुति की जाएगी। मंडलायुक्त के तेवर देख जिले के अलावा बलिया व मऊ के अधिकारी सहमे रहे।

कमिश्नर विजय विश्वास पंत मंडलीय सभागार में तीनों जिलों आरएफसी, डिप्टी आरएमओ समेत धान खरीद से जुड़े अधिकारियों से मुखातिब हुए। उन्होंने धान खरीद की तैयारियां परखने के साथ ही क्रय केंद्रों पर उपलब्ध संसाधनों के बारे में भी जानकारी की। उन्होंने कहा कि सभी धान क्रय केंद्रों पर नमी मापक यंत्र, इलेक्ट्रॉनिक कांटा, झरना, बोरा, पंखा उपलब्ध होना चाहिए। निरीक्षण में अनदेखी उजागर हुई तो जिम्मेदार के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। निर्देश दिए कि धान क्रय केंद्रों पर बैनर लगाने साथ ही वाल राइटिग भी कराई जाए। धान खरीद की आनलाइन फीडिग होनी चाहिए। मीटिग में जनपद में स्थापित/संचालित चावल मिलों की सूची, विवरण एवं उनके जीयो टैगिग की स्थिति (सार्टक्स युक्त मिलों की क्षमता एवं बिना सार्टक्स मिलों की क्षमता का मिलवार विवरण सहित), चावल मिलों के धान क्रय केन्द्रों से संबद्धीकरण की स्थिति, जनपदवार/संस्थावार/केन्द्रवार जियो टैगिग की स्थिति जनपदवार/संस्थावार/केंद्रवार बोरों की उपलब्धता, सीएमआर भंडारण प्लान, खरीफ विपणन व वर्ष 2020-21 में जनपदवार/संस्थावार धान खरीद की सूचना इत्यादि की समीक्षा की गई। मीटिग में तीनों जिलों के आरएफसी, डिप्टी आरएमओ, एफसीआइ के मंडलीय अधिकारी, मंडी परिषद, यूपी एग्रो के अधिकारी मौजूद रहे।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021