--प्रकृति का प्रकोप :::

-सुबह से शाम तक छाए रहे घने बादल, चल रही थी तेज पुरुवा हवा

-गेहूं की कटाई व मड़ाई को लेकर परेशान दिखे अन्नदाता

-गाढ़ी कमाई सुरक्षित करने को खेतों में जुटे रहे किसान

जागरण संवाददाता, आजमगढ़: बुधवार की सुबह अचानक मौसम का मिजाज बिगड़ गया। बादल देख अन्नदाताओं के चेहरे की रंगत फीकी पड़ गई। क्योंकि रबी की मुख्य फसल गेहूं की कटाई व मड़ाई का कार्य अभी लगभग 10 फीसद बाकी है।

जिले में लगभग तीन लाख हेक्टेयर क्षेत्रफल में गेहूं की खेती गई थी। इस बार फसल भी अच्छी रही। पंचायत चुनाव की बहार के बाद भी किसान अपनी गाढ़ी कमाई को जल्द से जल्द अपने घरों में सुरक्षित करने में लग गए हैं। कंबाइन मशीन और हाथ से कटाई के बाद मड़ाई का भी कार्य तेजी से चल रहा है। ऐसे में मौसम में उलटफेर के संकेत ने 10 फीसद किसानों परेशान करके रख दिया। किसान कटाई व मड़ाई को पूरे दिन डटे रहे। सुबह घने बादल देख किसानों के चेहरे पर पसीना आ गया। तेज पुरुवा हवा चलने के कारण गेहूं के डंठल में नमी से मड़ाई धीमी हो गई। दिन-भर बादलों की आंख मिचौली के कारण किसानों की धड़कनें तेज होती रहीं।

---------

लगभग 90 फीसद गेहूं की कटाई व मड़ाई का कार्य पूरा हो चुका है। बारिश हुई तो किसानों को मुश्किल जरूर होगी। ढैंचा व चरी आदि की बोआई में बारिश लाभदायक साबित होगा।

--डॉ. उमेश कुमार गुप्ता, जिला कृषि अधिकारी।

------------

50 फीसद अनुदान पर धान का बीज

जागरण संवाददाता, आजमगढ़: जिला कृषि अधिकारी डा. उमेश कुमार गुप्ता ने बताया कि दो-तीन दिनों में सभी राजकीय बीज भंडारों पर धान के बीज की उपलब्धता सुनिश्चित हो जाएगी। पंजीकृत किसानों को 50 फीसद अनुदान पर धान का बीज उपलब्ध कराया जाएगा। बताया कि किसान अपने से संबंधित राजकीय बीज भंडारों पर बीज की उपलब्धता के संबंध में जानकारी प्राप्त कर लें।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप