जागरण संवाददाता, आजमगढ़ : राष्ट्रीय राजमार्गों पर डिजिटल टोल संग्रह बढ़ाने के लिए वाहनों में फास्टटैग लागू किया गया है। 15 से 29 फरवरी तक वाहनों में निश्शुल्क फास्टटैग लगाने का निर्देश दिया गया है। उसके बाद से शुल्क लागू कर दिया जाएगा। जिले में वाहनों में फास्टटैग लगाने की जिम्मेदारी अतरौलिया स्थित टोल प्लाजा एवं एसबीआइ समेत तीन बैंकों को दी गई है। फास्टटैग लगाने के साथ रिचार्ज की सुविधा शुरू हो जाएगी। परिवहन मंत्रालय की ओर से 22 नवंबर से वाहनों में फास्टटैग लगाने की घोषणा की गई है।

इसकी सीमा एक बार फिर 15 दिनों के लिए बढ़ा दी गई है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआइ) द्वारा देश के 527 राजमार्गों पर फास्टटैग आधारित टोल टैक्स कलेक्शन शुरू किया गया है। पिछले दिनों प्रयास के बाद भी तमाम वाहन फास्टटैग से नहीं जुड़ सके हैं। इसके पीछे कई कारण बताए गए। कहीं फास्टटैग, स्टाफ, नेटवर्क की कमी आदि समस्याएं सामने आईं थीं। फास्टटैग के लिए एक बार फिर समय सीमा बढ़ाई गई है। टोल प्लाजा एवं एसबीआइ, केनरा व एक और बैंक को फास्टटैग दिया गया है। हालांकि अभी तक नेटवर्क की समस्या नहीं आयी है। फास्टटैग लेने के लिए वाहन का पंजीकरण प्रमाणपत्र (आरसी) दिखाना होगा। टोल प्लाजा एवं बैंक के अलावा अभी किसी को फास्टटैग की सुविधा नहीं दी गई है।

---------------

वर्जन----

फास्टटैग टोल प्लाजा, एसबीआइ, केनरा बैंक व एक अन्य बैंक को दिया गया है। पहले निश्शुल्क था लेकिन वर्तमान में 25 रुपये शुल्क लग रहा है। इसके साथ ही रिचार्ज कराना जरूरी है।

-योगेंद्र सिंह, एनएचएआइ मैनेजर।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस