आजमगढ़, जागरण संवाददाता। सड़क हादसों में कमी लाने के लिए अब हर माह समीक्षा होगी। इसके लिए सड़क सुरक्षा समिति में भी बदलाव किया गया है। समिति में लोक निर्माण विभाग के अधीक्षण अभियंता को सचिव बनाया गया है। शासन के निर्देश पर हर माह के प्रथम सप्ताह में समिति की बैठक होगी। इसमें सड़क हादसों के कारणों को चिह्नित कर इसकी रिपोर्ट शासन को भेजी जाएगी।

अभी तक इस समिति की बैठक तीन माह पर होती थी, जिसके कारण हादसों के मूल कारण सामने नहीं आ पा रहे थे। इसके पहले एआरटीओ प्रवर्तन समिति के सचिव होते थे। शासन के निर्देश पर जिलाधिकारी ने नई समिति पर अपनी मुहर लगा दी है। इसमें हादसों में सहायता करने वालों की सहायता राशि पर चर्चा होगी। 

12 विभागों की बनी समिति

जिलाधिकारी अध्यक्ष, अधीक्षण अभियंता लोक निर्माण विभाग सचिव, सहायक संभागीय परिवहन प्रवर्तन सह सचिव, पुलिस अधीक्षक, मुख्य चिकित्साधिकारी, संभागीय परिवहन अधिकारी, परियोजना राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण,परियोजना निदेशक एनएचएआइ, सचिव भारतीय रेडक्रास सोसायटी, ईओ नगर पालिका परिषद, अधिशासी अधिकारी लोक निर्माण विभाग, अधिशासी अभियंता ग्रामीण अभियंत्रण विभाग सदस्य होंगे। 

एआरटीओ सत्येंद्र कुमार यादव ने कहा, सड़क हादसों पर रोक लगाने के लिए समिति का गठन पहले से ही है। अब प्रत्येक माह इसकी बैठक होगी। इसमें हादसों की समीक्षा की जाएगी।

खुला बिक रहे सरसों के तेल का नमूना जांच को भेजा 

आजमगढ़। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के सचल दल ने शनिवार को भी चार खाद्य पदार्थों के नमून लिए, जिसे सील कर जांच के लिए राजकीय जनविश्लेषक प्रयोगशाला भेज दिया गया। टीम ने मुबारकपुर बाजार में छुहारा, किसमिस, लाची दाना का नमूना लिया। एक स्थान पर खुला सरसों का तेल बिक्री करने पाया गया, जो खुला बेचने के लिए पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। उसका नमूना जांच के लिए भेजा गया। मुख्य खाद्य सुरक्षा अधिकारी दीपक कुमार श्रीवास्तव, खाद्य सुरक्षा अधिकारी कीर्ति आनंद, अमरनाथ, प्रेमचंद्र, संजय कुमार सिंह, अनिल कुमार थे।

Edited By: Sudhir Tiwari

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट