आजमगढ़, जागरण संवाददाता: जिले में रिश्वत लेना बुधवार को एक संग्रह अमीन को महंगा पड़ गया, जब एंटी करप्शन आजमगढ़ व वाराणसी इकाई ने उसे रंगे हाथ गिरफ्तार कर सिधारी थाने को सौंप दिया। वह बिजली विभाग की वसूली के नाम पर 20 हजार की घूस ले रहा था। दरअसल पहले से सूचना पर मुस्तैद टीम ने हाइडिल चौराहा स्थित कपड़े की दुकान से हाथ में रुपये लेने के साथ दबोच लिया।

शहर कोतवाली के बाजबहादुर माेहल्ला निवासी महबूब आलम की सिधारी हाइडिल के पास सिलाई की दुकान है। डेढ़ साल पूर्व बिजली विभाग की टीम ने छापेमारी के दौरान दो लाख बीस हजार का बकाया बिल दिखाते हुए मुकदमा दर्ज कराया था। मामला तहसील में पहुंचा तो तहसील से दीदारगंज के पुष्पनगर निवासी संग्रह अमीन प्रेम कुमार मिश्र को वसूली की जिम्मदारी सौंपी गई।

बिजली बिल वसूली के नाम पर प्रताड़ित

पीड़ित ने बताया कि बिजली बिल वसूली के नाम पर प्रेम कुमार दुकान पर आते और वसूली के नाम पर प्रताड़ित करते हुए दो बार में एक हजार रुपये भी लिए। उसके बाद मामले को ठीक कराने के नाम पर 20 हजार रुपये की मांग एक माह से कर रहे थे।

सादे वेश में दुकान के आसपास खड़ी थी टीम

पीड़ित ने जिले के एंटी करप्शन थाना आजमगढ़ को मामले की जानकारी दी। उसके बाद योजनाबद्व तरीके तैयार दस सदस्यीय टीम थाना प्रभारी श्यामबाबू के नेतृत्व में बुधवार की शाम अमीन को रुपये देने के लिए पीड़ित से बुलाया और सादे वेश में दुकान के आसपास खड़ी हो गई।

घूस लेते रंगे हाथ गिरफ्तार

टीम ने अमीन काे रुपये लेते हुए रंगे हाथ गिरफ्तार कर सिधारी थाने के हवाले कर दिया। कार्रवाई में वाराणसी टीम के प्रभारी विनोद कुमार यादव आदि भी शामिल थे।

Edited By: MOHAMMAD AQIB KHAN

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट