जागरण संवाददाता, औरैया: संचारी रोग नियंत्रण अभियान के द्वितीय चरण की तैयारियों को लेकर बुधवार को जनपद के विभिन्न विभागीय अधिकारियों को जूम वेबिनार के माध्यम से प्रशिक्षण दिया गया। यह अभियान एक से 31 जुलाई तक निरंतर चलेगा। जिसमें सभी आंगनबाड़ी, आशा कार्यकर्ताओं, सफाई कर्मचारी आदि शामिल होंगे। ग्रामीणों में गृह भ्रमण कर लोगों को जागरूक कर संचारी रोगों से बचने के उपाय बताए जाएंगे। एक माह चले अभियान की रिपोर्ट पांच अगस्त को मुख्यालय भेजी जाएगी।

जिले में अभियान का प्रथम चरण एक से 31 मार्च तक चलाया गया था। दूसरा चरण एक से 31 जुलाई तक चलाया जाएगा। जूम मीटिग के माध्यम से जनपद स्तरीय अधिकारियों को प्रशिक्षण में संचारी रोगों से बचाव के तरीके बताए गए। इस अभियान में सभी आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता घर-घर जाकर बुखार, टीबी, कोविड, फाइलेरिया,डेंगू, चिकिनगुनिया, मलेरिया, उल्टी, दस्त आदि के रोगियों को चिह्नित कर जांच के लिए प्रेरित करेंगी। एसीएमओ डॉ. शिशिर पुरी ने बताया कि ग्रामीणों को संचारी रोगों से बचाव के तरीके जैसे मच्छरदानी का उपयोग निरंतर करना, फुल आस्तीन के कपड़े पहनना, घरों के आसपास साफ सफाई रखना, ठहरे हुए पानी का निस्तारण करना आदि सम्मलित हैं, बताने व जागरूक करने का काम किया जाएगा। मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ.अर्चना श्रीवास्तव ने अवगत कराया कि 15 से 25 जुलाई तक दस्तक अभियान चलाकर आशा प्रचार-प्रसार का कार्य, पानी के क्लोरीनेशन का डेमो व बुखार के रोगियों का चिह्नीकरण किया जाएगा। कुपोषित बच्चों को चिह्नित कर उनका उपचार एवं अति कुपोषित बच्चों को पोषण पुनर्वास से संदर्भित किया जाए। प्रशिक्षण में जिला प्रतिरक्षण अधिकारी, जिला सूचना अधिकारी, जिला विद्यालय निरीक्षक, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, जिला कार्यक्रम अधिकारी बाल विकास पुष्टाहार विभाग, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, जिला पंचायत राज अधिकारी, समस्त सीएचसी अधीक्षक, जिला कार्यक्रम प्रबंधक, कृषि रक्षा अधिकारी, अधिशासी अधिकारी नगर पालिका व नगर पंचायत आदि प्रशिक्षण में शामिल हुए।

Edited By: Jagran