संवाद सूत्र, अयाना: सोमवार तड़के अयाना थाना क्षेत्र में एक सब्जी विक्रेता की निर्मम हत्या कर दी गई। उसका शव हाईवे से सटे संपर्क मार्ग (भैरोपुर गांव जाने वाला मार्ग) के नजदीक खेत में पड़ा मिला। शौचक्रिया के लिए खेत की ओर आ रहे ग्रामीणों की नजर लहूलुहान पड़े युवक पर पड़ी। कुछ दूरी पर एक मोपेड पड़ी थी। ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी।आनन-फानन पहुंची पुलिस ने शव कब्जे में लेकर जांच शुरू की।

मृतक की शिनाख्त ग्राम अंतोल का पूर्वा निवासी सुखपाल (35 वर्षीय) पुत्र पूरनलाल सब्जी विक्रेता के रूप में हुई थी। वह मोपेड से औरैया मंडी समिति में सब्जी लेने जा रहे थे। घटनास्थल पर पहुंचे सीओ अजीतमल प्रदीप कुमार ने बताया कि ग्रामीणों ने सुखपाल का शव खेत में पड़ा पाया। गांव से करीब डेढ़ किमी दूर हाइवे किनारे मृतक की मोपेड पड़ी मिली है। मृतक की गर्दन, हाथ व अंदरूनी हिस्से पर धारदार हथियार से वार के निशान हैं। प्रथम दृष्टया में की गई जांच में हत्या कर खेत में शव डालने के साक्ष्य मिले हैं। स्वजन को घटना की जानकारी दे दी गई है। मृतक की पत्नी संतोषी व उसकी तीनों बेटियां खुशबू, नैना व नैंसी परिवार व गांव के लोगों के साथ घटनास्थल पहुंचे। स्वजन का रो-रो कर हाल बेहाल है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। अपर पुलिस अधीक्षक शिष्यपाल सिंह का कहना है कि हत्या कर शव खेत में फेंके जाने की आशंका है। फिलहाल, जांच की जा रही है। फॉरेंसिक टीम ने कुछ साक्ष्य जुटाए हैं।

-------------

स्वजन से भी पूछताछ, खंगाले जा रहे सीसीटीवी

सुखपाल की निर्मम हत्या के मामले में पुलिस ने स्वजन से भी पूछताछ की। मृतक का मोबाइल फोन घटनास्थल पर नहीं मिला। मोपेड कुछ दूर सड़क पर मिली है। पुलिस सूत्रों का कहना है कि मृतक की पत्नी संतोषी देवी के मोबाइल की कॉल डिटेल भी खंगाली जा रही है। जैसा कि यह भी चर्चा है कि मृतक की पत्नी 15 दिन पहले ही वह किसी रिश्तेदारी से गांव लौटी थी। पुलिस का कहना है कि जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। घटनास्थल के आसपास व हाईवे नजदीक लगे सीसीटीवी के फुटेज खंगाले जा रहे हैं।

------------

पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष ने की घटना के खुलासे की मांग

घटना की सूचना पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष दीपू सिंह ने मौके पर पहुंचकर बिलख रहे स्वजन को ढांढस बंधाया। अपर पुलिस अधीक्षक शिष्यपाल सिंह से शीघ्र ही घटना का खुलासा करने की मांग की है। दीपू सिंह ने कहा कि यह बहुत जघन्य अपराध है।

--------

किस्तों पर खरीदी थी मोपेड

ग्रामीणों का कहना था कि मृतक सुखपाल कभी गुड़ तो कभी खरबूजा तो कभी सब्जी बेचकर परिवार का भरण पोषण करता था। रविवार को भी कई गांवों में खरबूजा बेचने गया था। गांव-गांव फेरी लगाकर सब्जी बेचने के लिये ही उसने किस्तों पर मोपेड खरीदी थी।

Edited By: Jagran