जागरण संवाददाता, औरैया: दो वर्ष पुराने चोरी, लूटपाट व नकबजनी के मामले में जमानत पर रिहा होकर आए आरोपितों पर पुलिस की निगहबानी रहेगी। इन सभी आरोपितों पर नजर रखने के लिए पुलिस कार्यालय की ओर से बुकलेट तैयार की जा रही है। बुकलेट तैयार होने के बाद सर्विलांस टीम की ओर से आरोपितों के नंबर ट्रेस किए जाएंगे। इसका डाटा रविवार-शनिवार को तैयार किया जाएगा। इस बावत थानाध्यक्षों को निर्देश दिए गए हैं। बुकलेट की वजह से पुलिस को जहां सुविधा मिलेगी वहीं, लोगों को भी इससे राहत मिलेगी।

अपराधियों के खिलाफ पुलिस प्रशासन की ओर से लगातार अभियान चलाया जा रहा है। बावजूद चोरी, लूटपाट की घटनाएं बढ़ रही हैं। ऐसी घटनाओं पर अंकुश लगाए जाने के लिए अब शातिर चोरों व गैंग की सूची पर पुलिस ने कार्य करना शुरू किया है। ताकि, अपराधियों तक आसानी से पहुंचा जा सके। इसके लिए थानावार एक बुकलेट तैयार की जा रही है। इसमें पिछले दो वर्ष में चोरी, लूट की घटनाओं में संलिप्त आरोपितों का पूरा विवरण रहेगा। किस अपराध में और कब जेल गए, कितने मुकदमें दर्ज हैं, जेल से जमानत पर छूटने की तारीख, दोबारा किस मामले में जेल भेजे गए आदि विवरण होगा। जमानत या सजा काट जेल से रिहा होने के बाद अपराध की दुनिया से जुड़े हैं या फिर कोई दूसरा काम कर रहे हैं। जीवित है या फिर मर गए हैं। इन सब की पड़ताल की जाएगी। पुलिस अधीक्षक अपर्णा गौतम ने बताया कि जमानत या सजा काट छूटे आरोपितों की जानकारी बुकलेट के माध्यम से थानावार कराई जाएगी। टीम घर पहुंच सत्यापन करेगी।

Edited By: Jagran