जागरण टीम, औरैया: सीमित केंद्रों पर धान की खरीद होने से पिछले दिनों किसानों को परेशानी उठानी पड़ रही थी। जिसे देखते हुए पिछले दिनों प्रशासन की सख्ती के बाद लक्ष्य के सापेक्ष 44 केंद्र पूरे कर लिए गए। गुरुवार तक 41 क्रय केंद्रों पर किसानों की धान की खरीद भी चालू कराने कवायद पूरी कर ली गई है। शुक्रवार को दिबियापुर मंडी समिति के दूसरे क्रय केंद्र पर देर शाम तक किसानों की धान तौली जा सकी। इस पर केंद्र प्रभारी को चेतावनी जारी की गई।

वहीं डीएम की अध्यक्षता में समीक्षा बैठक करते हुए केंद्रवार रिपोर्ट तलब की गई। इसमें 337 किसानों से अब तक 1940.54 मीट्रिन टन धान की खरीद पायी गई। 148 किसानों के बैंक खातों में धनराशि हस्तांतरित की गई है।

किसानों की धान खरीद एक नवंबर से जारी है। शुरुआती दौर में किसानों से धान खरीद के आंकड़े रफ्तार नहीं पकड़ रहे थे। केंद्रों में इजाफा होने के साथ आकंड़ों में सुधार आया है। शुक्रवार को 44 केंद्रों में केवल 41 पर खरीद जारी दिखी। इकौरापुर में स्थापित पीसीएफ व एफपीसी के क्रय केंद्रों पर अभी तक खरीद चालू नहीं हो सकी है। जिसके जल्द चालू हो जाने की संभावना है। दूसरी ओर धान की बिक्री कर चुके 328 किसानों का करीब 219 लाख रुपया खातों में पहुंचाने के लिए लखनऊ मंडल कार्यालय भेजा जा चुका है। जिसमें से 148 किसानों का करीब 145 लाख रुपया आनलाइन खातों में पहुंच भी चुका है। कुछ किसानों के कागजातों में गड़बड़ी को लेकर भुगतान में देरी पहुंच रही है। वहीं डीएम सुनील कुमार वर्मा की अध्यक्षता में ककोर मुख्यालय के सभागार में एक समीक्षा बैठक हुई। इसमें केंद्रवार प्रभारियों से धान खरीद की रिपोर्ट ली गई।

Edited By: Jagran