संसू, कंचौसी: औरैया या जालौन-फफूंद मार्ग से ककोर होते हुए दिबियापुर जाने वाले वाहनों को अब असेनी होते हुए बेला होकर तिर्वा कन्नौज जाने के लिए मशक्कत नहीं करनी होगी। कुछ महीनों में

यह सहूलियत रेलवे डेडिकेट फ्रेट कारिडोर की ओर से मिलेगी। इसके अलावा कंचौसी रेलवे स्टेशन के समीप सूखमपुर क्रासिग के पास 600 मीटर का ओवरब्रिज बनाया जा रहा है। जो मडै़या गांव के पास के मार्ग से जुड़ेगा। गुरुवार को पिलर को लेकर पाइलिग का कार्य शुरू कराया गया है। हालांकि, किसान घटा का पुर्वा से सूखमपुर होते हुए कंचौसी-दिबियापुर कैनाल रोड से ब्रिज को जोड़ने की

मांग कर रहे हैं। दिल्ली-हावड़ा रेल रूट पर माल ढुलाई का एक अलग गलियारा डेडिकेट फ्रेट कारिडोर (डीएफसी) है। इस ट्रैक पर मालगाड़ियों का संचालन होता है। डीएफसी की ओर से रेलवे क्रासिग पर अंडरपाथ व जरूरत के तहत ओवरब्रिज बनाए जा रहे। इस कड़ी में कंचौसी व फफूंद रेलवे स्टेशन के बीच की क्रासिग संख्या छह पर ओवरब्रिज प्रस्तावित है। लेकिन, किसानों ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट डीपीआर का विरोध किया और घटा का पुर्वा से सूखमपुर होते हुए ब्रिज को कंचौसी-दिबियापुर कैनाल रोड पर उतारने की बात पर अड़ गए। तत्कालीन एसडीएम बिधूना राशिद अली खान ने किसानों की मांगों

को ध्यान में रखते हुए करीब तीन माह पूर्व सर्वे किया था। शासन को रिपोर्ट भेजी गई। वहीं गुरुवार को डीएफसी ने अपनी जमीन पर पिलर को लेकर पाइलिग का कार्य शुरू कराया है। सहायक प्रोजेक्ट मैनेजर डीएस चम्पिया की निगरानी में एक निर्माण कंपनी द्वारा कार्य कराया जा रहा है। अधिकारियों के अनुसार सूखमपुर से मडै़या तक लगभग 900 मीटर ब्रिज होगा।

Edited By: Jagran