मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

हिमांशु गुप्ता,औरैया

स्थानीय बाजारों में आलू का भाव इस साल भी धड़ाम है जबकि हैदराबाद, नागपुर सहित अन्य प्रदेशों की मंडियों में अच्छा भाव मिल रहा है। इससे छोटे किसान जहां परेशान हैं, वहीं बड़े किसान अपना आलू वहां भेज रहे हैं। हैदराबाद और नागपुर में भाव 1400 से 1500 रुपये क्विटल मिल है, जबकि लोकल बाजार में 700 रुपया क्विटल का भाव भी मुश्किल है। अधिकारियों की मानें तो बाहर आलू भेजे जाने से यहां भी भाव चढ़ेगा और किसानों को लाभ होगा।

जिले में इस बार हर साल की अपेक्षा अधिक आलू उत्पादन हुआ है। रकवा भी 5110 हैक्टेयर से बढ़कर 5700 हेक्टेयर हो गया है। इस समय कोल्ड स्टोरेज में 96.94 हजार मीट्रिक टन का भंडारण हुआ है। कई सालों से नुकसान झेल रहे किसानों को इसबार भी लोकल बाजार में फायदा नहीं दे रहा है। इसलिए किसानों ने बाहर मंडी की ओर रुख किया है। इस बार जो निकासी हो रही है,उसमें अधिकांश आलू बाहर की मंडी जा रहा है। इसमें सबसे ज्यादा आलू हैदराबाद व नागपुर अधिक आलू जा रहा है। हालांकि यह लाभ बड़े और पैसे वाले किसान ही उठा पा रहे हैं। क्योंकि उनके पास भाड़े के लिए धन है। छोटे किसानों को स्थानीय बाजार में कम दाम पर आलू बेचना पड़ रहा है।

अब तक 40 ट्रक जा चुके गैर प्रांत: उद्यान विभाग का कहना है कि अब तक करीब 40 ट्रक गैर प्रांत जा चुके हैं। इस अनुसार करीब 7 से 8 हजार क्विंटल आलू हैदराबाद व नागपुर जा चुका है।

स्थित एक नजर में

बोया गया कुल रकवा- 5700 हैक्टेयर

कुल उत्पादन -1.53 लाख मीट्रिक टन

कोल्ड स्टोरेज -14

भंडारण क्षमता -144132 मीट्रिक टन

हुआ भंडारण -96.94 हजार मीट्रक टन

किसानों की बात

-पिछली बार का घाटा पूरा करने की उम्मीद इस बार दिख रही थी, मगर लागत के हिसाब से इस बार भी बाजार नहीं दिख रहा है।

श्याम सिंह, ब्लाक भागयनगर

-बड़े व्यापारी तो आलू बाहर भेज दे रहें है, हम लोग कैसे भेजें। हम लोगों को तो यहीं बेचना होगा। इस बार भी घाटा दिख रहा है।

रमेश कुमार,ककोर

क्या कहते जिम्मेदार

अभी बाजार भाव गिरा है, लेकिन बाहर की मंडियों में अच्छा भाव मिल रहा है। भाड़ा देने के बाद भी सही मूल्य मिल रहा है। इसलिए आलू अभी तो बाहर जा रहा है। आगे दिनों में बाजार भाव यहां भी बढ़ सकता है। नुकसान की संभावना कम ही है।

धर्मेंद्र कुमार

सहायक उद्यान अधिकारी

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप