जागरण संवाददाता, औरैया: जनपद में डेंगू प्रभावित मरीजों की संख्या बढ़ रही है। अजीतमल के गांव बिलावा निवासी एक महिला की डेंगू रिपोर्ट पाजिटिव मिलने पर सक्रियता और बढ़ा दी गई है। महिला को कई दिन से बुखार आ रहा था। वह अस्पताल में भर्ती थी। जहां से उसकी छुट्टी कर दी गई थी। घर पहुंचने के बाद उसकी रिपोर्ट मिलने से धुकधुकी बढ़ी। उधर, स्वास्थ्य टीमों ने शुक्रवार को डेंगू प्रभावित क्षेत्रों का भ्रमण कर अन्य मरीजों का उपचार व मलेरिया, डेंगू, टाइफाइड, विडाल व कोविड-19 की जांच की। जिला मलेरिया टीम घर-घर जाकर लार्वा सर्वे का कार्य कर रही है।

अजीतमल क्षेत्र के गांव बिलावा निवासी एक महिला बुखार संक्रमण से पीड़ित होने पर 20 सितंबर को उत्तर प्रदेश आयुर्विज्ञान विवि सैफई में भर्ती कराया गया। उपचार के दौरान 23 सितंबर को डेंगू का जांच सैंपल लिया गया। पूर्ण रूप से स्वस्थ होने पर उसे 23 सितंबर को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उसके घर पहुंचने के बाद शुक्रवार को उसकी रिपोर्ट डेंगू पाजिटिव पाई गई। महिला को किसी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है, पूर्ण रूप से स्वस्थ है। डेंगू के मरीज मिलने पर स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से अलर्ट है। गांव-गांव शिविर आयोजित कर मरीजों का उपचार व जरूरी मलेरिया, डेंगू, विडाल, टाइफाइड की जांच व कोविड-19 की एंटीजन व आरटीपीसीआर सैंपल लिए जा रहे हैं। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा. शिशिर पुरी ने बताया कि डेंगू प्रभावित मरीज उपचार के दौरान स्वस्थ हो रहे हैं। स्वास्थ्य टीमें पूरी तरह से अलर्ट हैं। शुक्रवार को भी जिला मलेरिया टीम ने घर-घर जाकर लावा सर्वे का कार्य किया। जिला मलेरिया अधिकारी डा. लाल साहब सिंह ने ककोर मुख्यालय पर पीडब्ल्यूडी आफिस के बाहर लगे कूलर के पानी में लार्वा सर्वे किया। उन्होंने बताया कि टीमों को 23 सितंबर को लार्वा से संबंधित पूरी जानकारी दी गई है। इसे नष्ट करने के लिए वरिष्ठ सहायक मौजूद रहे।

Edited By: Jagran