संवाद सूत्र, फफूंद(औरैया) : नगर स्थित प्रसिद्ध तालीमी इदारा जामिया समदिया एवं आस्ताना आलिया पर गुरुवार को हजरत ख्वाजा गरीब नवाज रहमतुल्ला अलैहि की याद में एक जश्न मनाया गया। इसके बाद आए हुए जायरीनों को लंगर खिलाया गया।

गुरुवार को अजमेर स्थित हजरत ख्वाजा गरीब नवाज के उर्स के मौके पर (छठी शरीफ) के दिन कार्यक्रम आयोजित किए गए। जामिया समदिया के छात्रों ने नात और मनकबत पढ़ कर सुनाई। मौलाना खलीलुल्लाह निजामी ने ख्वाजा गरीब नवाज द्वारा किए गए सामाजिक कार्यों को विस्तार बताया। उन्होंने कहा कि अजमेर स्थित ख्वाजा की दरगाह एकता, अमन चैन और भाई-चारे का सबसे बड़ा प्रतीक है। सज्जादा नशीं हजरत शाह सय्यद अख्तर मियां चिश्ती आस्ताना आलिया की सर परस्ती व हजरत सय्यद मुहम्मद अनवर मियां की सदारत तथा नाजिमे आला मौलाना सय्यद गुलाम अब्दुस्समद(शहर काजी औरैया) की देखरेख में कार्यक्रम संपन्न हुए। आस्ताना आलिया पर तकरीर के बाद महफिले शमा का आयोजन किया गया। अंत में मुल्क में अमन चैन की दुआएं मांगी गईं। इसके बाद आये हुए अकीदतमंदों को ख्वाजा की याद में लँगर खिलाया गया। कार्यक्रम में जामिया समदिया के छात्रों के साथ विशेष रूप से हजरत सय्यद मुहम्मद अजहर मियाँ चिस्ती तथा शिक्षकों में मौलाना गुलाम जीलानी,अमीरुल हसन, अहकाम, शमसाद, अब्दुस्सुभान का सहयोग रहा। लगाया गया चिश्ती प्याऊ

संस्था ब•ा्म-ए-नातों अदब के बैनर तले ख्वाजा गरीब नवाज अजमेरी के 807वें उर्स के मौके पर चिश्ती प्याऊ लगाया गया । कार्यक्रम का शुभारंभ आस्ताना आलिया के हजरत सैय्यद मुहम्मद अ•ाहर मियां चिश्ती ने किया । उन्होंने कहा कि पानी पिलाना सबसे बड़ा सबाब का काम है। संस्था के लोगों ने राहगीरों को पानी पिलाया व बिस्कुट वितरित किए। सैय्यद मु0 इब्राहीम मियां चिश्ती, सैय्यद मुहम्मद मियां चिश्ती, मदद फाउंडेशन के प्रबंधक हाफिज गुल•ार चिश्ती, मुस्त़कीम चिश्ती, मुशीर चिश्ती, अब्दुल बारी चिश्ती, माजिद चिश्ती, गुलाम गौस, अतीक चिश्ती, दिलशाद चिश्ती, नफीस चिश्ती, फै•ान चिश्ती आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran