संवाद सहयोगी, बिधूना: मंडी समिति स्थित खाद्य विभाग गेहूं के क्रय केंद्र पर एक अप्रैल से अभी तक 336 किसानों से 17421 क्विंटल गेहूं खरीद हुई है। वहीं 15 जून तक होने वाली खरीद को लेकर एसडीएम ने केंद्र प्रभारियों को सजग किया है।

केंद्र प्रभारी हरीशचंद्र दुबे ने कहा कि एक अप्रैल से लगातार गेहूं की खरीद की जा रही है। किसानों को दी जाने वाली सभी सुविधाओं का उन्हें लाभ दिया जा रहा है। उन्होंने कहा अभी तक 15 जून तक गेहूं खरीद किए जाने के आदेश हैं। गेहूं खरीद केंद्र पर बारदाना की कोई कमी नहीं है। पीसीएफ केंद्र ताजपुर ,पीसीयू के रुरुकला, रुरुखुर्द व सराय प्रथम से बारदाना का अभाव बताकर किसानों को लौटा दिया जाता है। बीते दो दिन पूर्व ही रुरुकला रुरुखुर्द खरीद केंद्र पर 1500-1500 बोरी बारदाना की भेजी गई है। एसडीएम राशिद अली खान ने बताया कि बारिश के मद्देनजर सभी केंद्र प्रभारियों को गेहूं खरीद में तेजी लाए जाने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि किसानों के गेहूं खरीदने में टाल मटोल करने वाले केंद्र प्रभारियों की जांच कराकर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

---------------

अभी भी 4684 मीट्रिक टन गेहूं सुरक्षित नहीं

जागरण संवाददाता, औरैया: जिले के क्रय केंद्रों पर अभी भी 4684 मीट्रिक टन अभी भी रखा हुआ है। आए दिन बदल रहे मौसम ने अधिकारियों की रातों की नींद उड़ा रखी है। गुरुवार रात हुई बारिश ने एक बार फिर से प्रभारियों की धड़कने बढ़ाने का काम किया। सुबह केंद्र प्रभारी पहुंचे और गेहूं की बोरियों को चेक किया। हालांकि बारिश से गेहूं नहीं भीगा है।

जिले में एक अप्रैल से 71 क्रय केंद्रों पर गेहूं खरीद शुरू हुई है। अभी तक 38300 मीट्रिक टन गेहूं खरीद की जा चुकी है। 15 जून को गेहूं खरीद का सिलसिला थम जाएगा। शासन स्तर पर गेहूं को सुरक्षित गोदाम तक पहुंचाए जाने पर खास जोर दिया जा रहा है। जिलाधिकारी सुनील कुमार वर्मा की ओर से प्रतिदिन समीक्षा की जा रही है। गुरुवार देर रात तेज गरज के साथ बारिश होने लगी। तेज बारिश होने से केंद्र प्रभारियों के रात की नींद उड़ी रही। हालांकि 90 फीसद गेहूं गोदामों में पहुंचाया जा चुका है और 4684 मीट्रिक टन क्रय केंद्रों पर रखा हुआ है। प्रतिदिन मौसम को बिगड़ते मिजाज ने केंद्र प्रभारियों की रातों की नींद हराम कर दी है। शुक्रवार सुबह सभी केंद्र प्रभारी समय से पहुंचे और बोरियों को चेक किया। सभी केंद्र प्रभारियों को दो दिन के अंदर गेहूं गोदाम तक पहुंचाने के निर्देश दिए गए हैं। अन्यथा की स्थिति में कार्रवाई किए जाने के निर्देश दिए गए हैं। जिला खाद्य विपणन अधिकारी सुधांशु शेखर चौबे ने बताया कि शेष बचे गेहूं को गोदाम में सुरक्षित कराया जा रहा है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप