जेएनएन, अमरोहा: हाईस्कूल के छात्र की हत्या का पुलिस ने राजफाश कर दिया है। मृतक के बड़े भाई ने संपत्ति हड़पने के लालच में दोस्त के साथ मिलकर हत्या कराई थी। पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर हत्या में प्रयुक्त तमंचा बरामद कर लिया है।

बता दें कि आदमपुर थाना क्षेत्र के गुरैठा गांव निवासी रमाकांत शर्मा के 15 वर्षीय बेटे गणेश दत्त की 18 जनवरी को गोली मारकर की गई हत्या का पुलिस ने राजफाश कर दिया है। बकौल पुलिस मृतक के पिता रमाकांत की पहली पत्नी किरन के कोई संतान नहीं हुई तो उसके पिता ने किरन की बहन उषा से शादी कर ली। उषा से दो बेटी व तीन बेटे पैदा हुए। रमाकांत शर्मा के पड़ोसी जनपद सम्भल के गवां कस्बे में प्लाट और दो मकान हैं। इसमें पहली पत्नी किरन रहकर मेडिकल स्टोर चलाती है। किरन ने उषा के बेटे गणेश दत्त को गोद ले रखा है। गांव की संपत्ति किरन के कब्जे में है। इसके अलावा वह गांव में स्थित जंगल की 70 बीघा भूमि में गणेश के लिए आधा हिस्सा मांग रही थी। गणेश के हिस्से की संपत्ति के लालच में बडे़ भाई यज्ञदेव उर्फ जग्गा ने गांव निवासी अपने दोस्त नरेंद्र के साथ मिलकर गणेश की हत्या की योजना बनाई थी। नरेंद्र को गोली मारने के एवज में पांच लाख रुपये देने की बात कही थी। योजना के मुताबिक रात को 10 बजे मृतक के दादा महेंद्र प्रसाद शर्मा के कमरे के अंदर सोने के बाद वह गणेश दत्त को बुलाकर जंगल ले गए तथा यज्ञदेव ने छोटे भाई को पकड़ लिया और नरेंद्र ने सीने से सटाकर गोली मार दी। हत्या करने के बाद दोनों ने शव जंगल से ले जाकर पशुशाला में चारपाई पर डाल दिया था। थानाध्यक्ष कृपाल सिंह ने बताया कि दोनों आरोपितों को गिरफ्तार कर हत्या में प्रयुक्त तमंचा बरामद कर चालान कर दिया है। इंटरनेट पर सीखा कत्ल का तरीका

हत्यारोपित यज्ञदेव उर्फ जग्गा व नरेंद्र पेशेवर अपराधी नहीं हैं। दोनों ही उच्च शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। आरोपित यज्ञदेव बीफार्मा की पढ़ाई कर रहा है तो नरेंद्र बीए द्वितीय वर्ष का छात्र है। एक संपत्ति के लालच में छोटे भाई का हत्यारोपित बन गया तो दूसरा पांच लाख के लालच में शूटर बन बैठा। पुलिस को पूछताछ में बताया कि गोली चलाने का हुनर उन्होंने मोबाइल पर इंटरनेट के माध्यम से सीखा था।

Edited By: Jagran