गजरौला : पिछले साल गंगा में आई बाढ़ के कारण तिगरी से पहले बने पपसरा खादर बांध का कुछ हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया था। इसकी मरम्मत का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा गया था। इसके लिए तीन करोड़ का बजट मानसून का समय एकदम सिर पर आने पर जारी किया गया है। विभाग ने इस बजट से काम चालू करा दिया है। हालांकि काम चालू होते ही बारिश पड़ने से कुछ दिक्कतें भी आ रही हैं।

तिगरी-चकनवाला के मध्य गंगा का बहाव मोड़ने के लिए पपसरा खादर में बांध बना हुआ है। पिछले साल मानसून के दौरान पहाड़ी जलाशयों से अधिक मात्रा में पानी छोड़ा गया था। तब दो माह से अधिक समय तक गंगा उफनाने पर बाढ़ की स्थिति से जूझना पड़ा था। काफी गांवों में पानी घुसने के कारण किसानों की फसल बर्बाद हुई थी। वहीं गंगा के बहाव से तिगरी समेत कई स्थानों पर मिट्टी का जबरदस्त कटान भी हुआ था। पपसरा खादर में बने बांध के स्पर संख्या चार व पांच क्षतिग्रस्त हो गए थे। करीब 275 व 165 मीटर लंबे इन स्परों के क्षतिग्रस्त होने के कारण बाढ़ के संभावित खतरे को देखते हुए इनकी मरम्मत का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा गया था।

विभाग ने पूरा साल गंवाने के बाद अब मरम्मत के लिए तीन करोड़ रुपया जारी किया है। बाढ़ नियंत्रण खंड विभाग के द्वारा इस बजट से दोनों स्परों पर काम चालू करा दिया है। सप्ताह भर से यहां काम चल रहा है लेकिन पिछले तीन दिनों से बारिश होने के कारण काम में व्यवधान भी आ रहा है। इससे काम की गुणवत्ता प्रभावित होने की आशंका जाहिर की जा रही है। हालांकि बाढ़ खंड के जेई प्रदीप कुमार ने काम आरंभ होने की पुष्टि करते हुए बताया कि मरम्मत कार्य पर पूरी नजर विभाग रख रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस