मंडी धनौरा : केन्द्रीय सूक्ष्म, लघु व मध्यम उद्यम मंत्री गिरिराज ¨सह ने कहा विश्व के बाइस मुस्लिम देशों में जनसंख्या नियंत्रण काननू लागू है। जब देश में इस कानून को लागू किए जाने के लिए कसरत की जाती है तो वोटों के सौदागर व शरिया कानून इसके आड़े आ जाता है। ¨हदू बिना देश में सर्व धर्म की कल्पना संभव नहीं है। देश के 54 जिलों में ¨हदू आबादी कम हुई है। जिस कारण इन जिलों में विकास व संसाधनों की कमी भी दर्ज की गई है।

वह जनसंख्या समाधान फाउंडेशन के बैनर तले शहर के रामलीला मैदान में आयोजित रैली को संबोधित कर रहे थे। कहा आजादी के वक्त जब देश से कटकर पृथक पाकिस्तान का गठन हुआ तो उस वक्त बाइस प्रतिशत ¨हदू पाकिस्तान के हिस्से में आए थे। वहीं भारत में मात्र आठ प्रतिशत दूसरे समुदाय के लोग बटवारे के समय रह गए थे। वर्तमान में पाकिस्तान में ¨हदू आबादी घटकर मात्र एक प्रतिशत रह गई है। यहां भारत में दूसरे समुदाय के लोग पच्चीस प्रतिशत हो गए हैं। देश में बढ़ती जनसंख्या एक गंभीर विषय है।

केन्द्रीय कैबिनेट मंत्री ने कहा वर्तमान में अगर आंकड़ों की मानें तो हम लगभग एक अरब चालीस करोड़ के लगभग हैं। यानि पूरे विश्व की आबादी की बीस प्रतिशत जनसंख्या भारत में रहती है। आबादी बढ़ने से स्वास्थ्य, शिक्षा व अन्य जरूरी संसाधनों में लगातार गिरावट दर्ज की जा रही है। इससे बचाव के लिए जनसंख्या नियंत्रण कानून को लागू करना होगा। पूरी दुनिया में जनसंख्या नियंत्रण कानून बना हुआ है। ईरान सहित विश्व के बाइस मुस्लिम देशों तक में जनसंख्या नियंत्रण कानून लागू है, मगर भारत में यह काननू केवल चर्चा तक ही सीमित रह जाता है। यहां वोटों की राजनीति व शरिया कानून आड़े आ जाता है। वर्तमान में सदन में इस पर प्राइवेट मेम्बर बिल आया है।

कहा देश के 54 जिलों में ¨हदुओं की तेजी से घट रही जनसंख्या एक गंभीर विषय है। ¨हदू समाज इस बिल को लागू कराने को राजी है तो दूसरे समुदाय के लोग क्यों साथ नहीं देते। उन्होंने जात पात से ऊपर उठकर इस कानून के समर्थन में एकजुट होने का आह्वान किया।

यहां सांसद कंवर ¨सह तंवर, विधायक राजीव तरारा, हसनपुर विधायक महेन्द्र खड़गवंशी, पालिका अध्यक्ष राजेश सैनी, फाउंडेशन के अध्यक्ष अनिल चौधरी, महासचिव ममता सहगल, राहुल अग्रवाल, अशोक शर्मा, सर्वेश शर्मा, चौधरी विजयपाल ¨सह, डूंगर ¨सह, भाजपा जिलाध्यक्ष ऋषिपाल नागर, कुसुम लता गोयल, यतीन्द्र कटारिया आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस