अमरोहा : शहर की समाजिक संस्थाओं के संयुक्त प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री कार्यालय के निदेशक को ज्ञापन सौंपकर दिल्ली स्थित सीरियाई दूतावास को बंद करने की मांग की है। रविवार को संस्थाओं के पदाधिकारी अमरोहा से दिल्ली रवाना हुए थे।

रविवार सुबह यूथ मुस्लिम कमेटी, काविश वेलफेयर सोसाइटी, विकार उल मुल्क वेलफेयर सोसाइटी, टीम हम व मदद फाउंडेशन के नेतृत्व में दिल्ली गए प्रतिनिधिमंडल ने सीरिया दूतावास के बाहर नारेबाजी व प्रदर्शन किया। वक्ताओं का कहना था कि विद्रोहियों के खिलाफ बमबारी में बेकसूर लोगों की जानें जा रही है। अब तक हजारों मासूम बच्चे मर चुके है। सोशल मीडिया पर शेयर हो रही तस्वीरें दिल का झकझोर देने वाली हैं। सीरिया सरकार ने तानाशाही रवैया अपना रखा है।

इस कार्रवाई से मानवाधिकारों का खुलेआम उल्लंघन हो रहा है और संयुक्त राष्ट्र संघ ने इस पूरे मामले में चुप्पी साध रखी है। इसके उपरांत प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री को संबोधित ज्ञापन पीएमओ कार्यालय के निदेशक सैयद इकराम रिजवी को सौंपकर सीरिया सरकार की इस बर्बरता का विरोध जताया तथा भारतीय मुसलमानों की भावनाओं का हवाला देते हुए सीरियाई दूतावास को बंद करने की मांग की।

इस अवसर पर मुराद आरिफ एडवोकेट, अथर आलम, डॉ.अमीनुल हक, वसीम अकरम, तारिक अजीम, आसिफ अली, मोहम्मद रागिब, अश्यिम फारूक, उबैद खान शामिल रहे।

Posted By: Jagran