गजरौला : बरसात के बाद धूप निकलने से संक्रमित बीमारियां लोगों को चपेट में ले रही हैं। बदलते मौसम में वायरल फीवर का प्रकोप शुरू हो गया है। रोजाना स्वास्थ्य केंद्र में मरीजों की संख्या में इजाफा हो रहा है। मरीजों की भीड़ इतनी थी कि सीएचसी में पैर रखने को भी स्थान नहीं बचा। इनमें 1100 नए मरीज पहुंचे।

सरकारी अस्पतालों में मलेरिया, टाइफायड, पीलिया और वायरल फीवर के मरीजों की खासी भीड़ आ रही है। बरसात के बाद धूप निकलने से हवा में संक्रमण का मिश्रण घुल जाता है। इस वजह से मरीजों की संख्या बढ़ रही है। गजरौला सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में ओपोडी पांच सौ मरीजों की रहती है। आज रिकार्डतोड़ मरीज सीएचसी में पहुंचे। पंद्रह सौ से अधिक मरीजों में 1100 मरीज नए पहुंचे। इसमें वायरल फीवर व टायफाइड, मलेरिया के मरीजों की तादाद अधिक रही।

डा.श्योराज ¨सह के अनुसार मौसम में नमी और जगह-जगह जलभराव के कारण मलेरिया और दूषित जलापूर्ति के चलते टायफायड के मरीज की संख्या में इजाफा हो रहा है। पीएचसी से लेकर सीएचसी के अस्पतालों का यही हाल है। पिछले एक पखवाड़ा में यहां आधा सैकड़ा से ज्यादा मरीजों में टायफायड की पुष्टि हो चुकी है। बताया कि वेक्टर जनित बीमारियों के लिए यह मौसम काफी संवेदनशील होता है। ओपीडी में मलेरिया के मरीजों की संख्या बढ़ रही है।

Posted By: Jagran