गजरौला : तिगरी व ब्रजघाट पर गंगा की उफनाती लहरें भी आस्था को नहीं डिगा पाईं और श्रद्धालुओं ने मां गंगा के आंचल में सावधानी के साथ खूब गोते लगाए। इस दौरान हर-हर गंगे के जयकारों से गंगाघाट गूंज उठे। उधर, जाम की समस्या से भी श्रद्धालुओं को जूझना पड़ा।

दो दिन हुई मूसलाधार बारिश के बाद तिगरी व ब्रजघाट में गंगा उफान पर चल रही हैं। इसी क्रम में बुधवार को शरद पूर्णिमा के मौके पर दोनों ही स्थान पर स्नान हुआ। खास बात है कि गंगा की तेज लहरों के बावजूद श्रद्धालुओं के अंदर मां गंगा के आंचल में स्नान करने की आस्था कम नहीं हो पाई। श्रद्धालुओं ने बेखौफ होकर गोते लगाते हुए हर-हर महादेव के जयकारे लगाए। इस दौरान माहौल भक्तिमय में हो गया। स्नान के बाद घाट पर विराजमान पुरोहितों को दान कर पुण्य लाभ भी कमाया। हालांकि ब्रजघाट व तिगरी में जाम की समस्या नहीं हुई। तिगरी के पंडित गंगाशरण शर्मा ने बताया कि शरद पूर्णिमा पर स्नान करने के लिए काफी संख्या में ग्रामीण पहुंचे हैं। शरद पूर्णिमा पर भजन कीर्तन में मगन हुए श्रद्धालु

मंडी धनौरा: शरद पूर्णिमा के मौके पर बालाजी धाम पर भजन कीर्तन का आयोजन किया गया। देर रात्रि को भगवान की विशेष आरती कर चोले की खीर का भोग लगाया गया। तत्पश्चात प्रसाद का वितरण किया गया।

मंगलवार की रात मुहल्ला कंचन बाजार स्थित श्री राम जानकी मंदिर बालाजी धाम बालाजी भक्त मंडल सोसायटी के तत्वाधान में कार्यक्रम का आयोजन हुआ। यहां शरद पूर्णिमा के मौके पर भजन कीर्तन का आयोजन किया गया। श्रद्धालुओं ने ढोलक व मंजीरे की थाप पर भजन-कीर्तन किया। देर रात्रि में भगवान को चोले की खीर का भोग लगाया गया। तत्पश्चात प्रसाद का वितरण किया गया। मंदिर के पुजारी दिनेश द्विवेदी ने बताया शरद पूर्णिमा पर भगवान ने गोपियों संग महारास रचाया था। इस दिन चंद्रमा अपनी 14 कलाओं पर होता है। इस मौके पर कमेटी के अध्यक्ष हितेश मांगलिक, अरविद अग्रवाल, सुमित अग्रवाल, शिव कुमार, संजीव गर्ग, संजय गर्ग, राकेश अग्रवाल, नरेंद्र अग्रवाल, ललिता देवी, अनीता देवी, प्रभा अग्रवाल, सिपल अग्रवाल आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran