हसनपुर : थाना सैदनगली के तरारा गांव में कच्ची शराब पीने से बेहोश होकर रात भर रास्ते में पड़े रहे युवक की सर्द भरी रात में मौत हो गई। सुबह को घर के सामने रास्ते में उसका शव पड़ा मिलने से गांव में सनसनी फैल गई। परिजनों ने बिना पोस्टमार्टम कराए अंतिम संस्कार कर दिया।

गांव निवासी हरदेव ¨सह 27 वर्ष शराब पीने का आदी था। गांव में बन रही कच्ची शराब पीकर वह दिन भर इधर उधर घूमता था। शनिवार की रात को वह कहीं पर कच्ची शराब पीकर नशे में हो गया। घर पहुंचने से पहले ही रास्ते के किनारे बेहोश हो कर गिर गया। इसके बाद वह वहीं पड़ा रहा। सुबह रास्ते के किनारे शव पड़ा मिलने से परिजनों में कोहराम मच गया। परिजनों ने बिना कार्रवाई किए ही अंतिम संस्कार कर दिया है।

मृतक ने अपने पीछे पत्नी पूनम के अलावा एक मासूम बेटा व एक बेटी को छोड़ा है। पत्नी व बच्चों का रोते रोते बुराहाल है।

..तो कच्ची शराब ने लील ली 10 ¨जदगी

हसनपुर :सर्किल हसनपुर में कच्ची शराब बनाकर बेचने का धंधा लंबे अर्से से चल रहा है। पुरुषों के साथ महिलाएं तक कच्ची शराब के धंधे में लगी हुई हैं। पतित पावनी गंगा मैया के खादर में कच्ची शराब बनाकर दूध की तरह लीटर से नापकर बेची जा रही है। गांवों में कदम कदम पर शराब बिकने से कम उम्र के बच्चे तक शराब का सेवन करने लगते हैं।

थाना सैदनगली के तरारा, कंडौवा, हाजीपुर, सूमाठेर में बडे़ पैमाने पर शराब बनाकर बेची जा रही है। तरारा के ग्रामीणों का कहना है कि गांव में कच्ची शराब पीने से शराब के आदी हो चुके जसमाल, शंकर, जग्गन ¨सह, खचेड़ू, हरपाल ¨सह, नैपाल ¨सह, ¨रकू, श्योराज व हर गो¨वद की मौत हो चुकी है। इनमें से कुछ की शराब पीने से तो कुछ शराब पीकर सड़क हादसे का शिकार हो चुके हैं।

Posted By: Jagran